हैदराबाद में हुई भगवा स्ट्राइक, बिगड़ गया पूरे चुनाव का समीकरण, जानें कैसे बनेगा मेयर!

असदुद्दीन ओवैसी के गढ़ में घुसकर भाजपा ने झंडे गाड़ दिए हैं। यानि ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) चुनाव में भाजपा ने पिछले चुनाव के मुकाबले इस बार बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 49 सीटें जीत लीं, जबकि पिछली बार महज चार सीटों पर जीत मिली थी, हैदराबाद में भाजपा के बेहतरीन प्रदर्शन के बाद सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है कि हैदराबाद में भगवा स्ट्राइक हुई जिसमें ओवैसी और टीआरएस धाराशायी हो गए.

भाजपा का बेहतरीन प्रदर्शन न सिर्फ उसे आखिरी पायदान से दूसरे नंबर पर लाया बल्कि मेयर की गणित भी बिगाड़ दिया, जी हाँ! 150 सीटों वाले इस चुनाव में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है। मेयर बनाने कि किसी दो पार्टी को साथ आना ही होगा। माना जा रहा है कि टीआरएस और AIMIM का गठबंधन हो सकता है. और दोनों मिलकर मेयर बना सकते हैं, ध्यान रखें मेयर महिला ही होगी।

बीजेपी ने इस चुनाव ने अपनी पैठ बढ़ाते हुए राज्य में सत्तारूढ टीआरएस को लगभग भयभीत कर दिया है, जो नगर निकाय पर बमुश्किल अपना कब्जा बरकरार रख पाने में कामयाब रही। भाजपा के बेहतरीन प्रदर्शन के बाद तेलंगाना भाजपा अध्यक्ष बांदी संजय कुमार ने इसे भगवा स्ट्राइक करार दिया है।

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव के नतीजों में भाजपा का दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनना बहुत बड़े बदलाव का संकेत है। भाजपा का 4 सीट से 49 सीट पर पहुंचना, उन लोगों की गोलबंदी टूटने का सूचक है जिनका मकसद निजामों के शहर में भारतीयता के विरुद्ध विष वमन करना रहा है।

हैदराबाद निगम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने ऐतिहासिक छलांग लगाते हुए ओवैसी का किला ढहा दिया, भाजपा ने TRS को जबरदस्त पटखनी दे दी है. 150 सीटों पर आए नतीजों में 49 सीटों को भाजपा ने अपने नाम कर लिया. टीआरएस के खाते में सिर्फ 56 सीटें आई. जबकि ओवैसी की पार्टी AIMIM तीसरे नंबर पर पहुंच गई और सिर्फ 43 सीटों पर जीत दर्ज कर पाई. वहीं कांग्रेस को दो सीटों से संतोष करना पड़ रहा है।

loading...