अमेरिका ने दी चीन को एक और तगड़ी चोट, जाते-जाते जिनपिंग को खून के आंसू रुला रहे हैं ट्रम्प!

अमेरिका में सत्ता परिवर्तन हो गया है, डेमोक्रेटिक पार्टी के जो बाइडेन अमेरिका के नए राष्ट्रपति बन गए हैं, हालाँकि व्हाइट हाउस में अभी डोनाल्ड ट्रम्प हैं क्योंकि उनका कार्यकाल जनवरी तक है। बीते कुछ महीनों को देखा जाय तो अमेरिका और चीन के बीच काफी तनातनी देखने को मिली। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनाल्ड ट्रम्प ने चीन के खिलाफ कड़ा रुख अख्तियार किया है, जाते-जाते ट्रम्प चीन को खून के आंसू रुला रहे हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड तरुम ने चीन को एक और तगड़ा झटका देते हुए बड़ी प्रतिबंधात्‍मक कार्रवाई की है. अमेरिकी वाणिज्य मंत्रालय ने 59 चीनी साइंटिफिक और इंडस्ट्रियल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है, इसमें सेमीकंडक्‍टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉरपोरेशन भी शामिल है. अमेरिका ने इन कंपनियों को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताया है, साथ ही विदेश नीति के विपरीत करार दिया है.

इससे पहले राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए अमेरिका ने चीन के सबसे बड़े प्रोसेसर चिप निर्माता कंपनी एसएमआईसी और तेल की दिग्गज कंपनी सीएनओओसी समेत 4 चाइनीज कंपनियों को ब्लैकलिस्ट में डाल दिया था.

अमेरिका की सत्ता से जाते-जाते डोनाल्ड ट्रंप चीन को खून के आंसू रुला रहे हैं। ट्रम्प ने ड्रैगन पर एक और हथौड़ा चलाया है, जिसकी चोट चीन को काफी समय तक याद रहेगी।