कंगना का ट्विटर अकाउंट सस्पेंड कराने बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँच गए थे अली काशिफ खान, हाथ लगी निराशा

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस कंगना रनौत इन दिनों सोशल मीडिया पर जमकर सक्रिय हैं, ट्विटर के जरिये हर मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रख रही हैं। लेकिन कुछ लोग को ये रास नहीं आ रहा है, यही वजह है कि मुंबई के वकील अली काशिफ खान देशमुख कंगना के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँच गए थे, उन्होंने याचिका दायर करके कंगना के अकाउंट को सस्पेंड कराने की मांग की थी, उन्होंने कंगना पर देश में लगातार नफरत और असामंजस्य फैलाने, और देश को चरमपंथी ट्वीट्स के साथ बांटने का प्रयास करने” का आरोप लगाया था.

इसपर सुनवाई करते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा कि अभिनेत्री कंगना रनौत के पास ट्विटर अकाउंट रखने और उस पर अपने विचार प्रस्तुत करने का अधिकार है। बता दें कि कंगना के आपत्तिजनक ट्वीट्स के आरोप में उनके खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज की गई थी, जिस पर बॉम्बे हाई कोर्ट में सुनवाई थी।

याचिकाकर्ता ने कहा कि कंगना रनौत दो समुदायों के बीच दुश्मनी फैलाने का काम कर रही हैं और कंगना के ट्वीट के माध्यम से उनके धर्म को ठेस पहुंच रही है। इस पर जस्टिस शिंदे ने याचिकाकर्ता से कहा कि कोई भी व्यक्ति ट्विटर पर अकाउंट बना सकता है और उस पर अपने विचार रख सकता है तो तुम्हें दिखाना होगा कि कैसे तुम्हारे मूलभूत अधिकारों पर प्रहार हुआ है।