कृषि कानून पर रुबिका लियाकत के सवालों में फंसे AAP नेता संजय सिंह तो बद्तमीजी पर उतरे

कृषि कानून को लेकर इन दिनों जबरदस्त घमासान मचा हुआ है, केंद्र सरकार कृषि कानूनों को किसान हित में बता रही है तो वहीँ पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ किसान संगठन कृषि कानून के विरोध में धरने पर बैठे हुए हैं और इसे काला कानून बताकर रद्द करने की मांग कर रहे हैं, पिछले 22 दिनों से दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों का आम आदमी पार्टी, कांग्रेस व् कई राजनैतिक पार्टियाँ खुला समर्थन कर रही हैं।

दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने कृषि बिल के विरोध में गुरुवार ( 17 दिसंबर, 2020 ) को सदन का विशेष सत्र बुलाया था, इस दौरान सदन में मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल समेत आम आदमी पार्टी के विधायकों ने कृषि कानून की कॉपी को फाड़ दिया और केंद्र सरकार से क़ानून वापस लेने की माँग की। दिलचस्प बात यह है कि जिस कृषि कानून की कॉपी को आज मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने सदन में फाड़ा, उसी कानून को दिल्ली सरकार ने 23 नवंबर, 2020 को दिल्ली में लागू किया था

कृषि कानून को लेकर एबीपी न्यूज़ पर आज शाम पांच बजे डिबेट चल रही थी, इस डिबेट में आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह भी मौजूद थे और कृषि कानून को बार-बार किसान विरोधी बता रहे थे, इस दौरान एंकर रुबिका लिया ने एक सवाल पूछ लिया, जिसका संजय सिंह के पास कोई जवाब नहीं था।

दरअसल सीनियर जर्नलिस्ट रुबिका लियाकत ने आप नेता संजय सिंह से पूछा कि जब कृषि कानून किसान विरोधी है तो केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में 23 नवंबर, 2020 को नोटिफाई क्यों किया? ये सवाल सुनते ही संजय सिंह बौखला गए, जवाब देने के बजाय हिंसक रवैया अपनानें लगे. जिसके लिए ये जानें भी जाते हैं।


रुबिका के सवाल सुनकर संजय सिंह इस कदर सनक गए कि वो पत्रकार को बिकाऊ बताने लगे, बेवजह अडानी को बीच में खींच लाये, लेकिन सवाल का जवाब नहीं दिए, यहीं नहीं संजय सिंह ने एबीपी न्यूज़ को बिकाऊ चैनल तक कह दिया, इसपर जब रुबिका ने आपत्ति जाहिर की तो लाइव टीवी पर संजय सिंह धमकी देने लगे, महिला पत्रकार को अंगुली दिखा-दिखाकर बात करने लगे. लेकिन सवाल का जवाब नहीं दे पाए।