कोटा के सरकारी अस्पताल में 8 घंटे में 9 नवजात बच्चों की मौत, कटघरे में कांग्रेस सरकार

पिछले साल कोटा के सरकारी अस्पताल में 35 दिन में 107 बच्चों की मौत हुई थी, इस लापरवाही से सरकार ने सीख नहीं ली, शायद यही वजह है कि अस्पताल में इस साल भी बच्चों की मौत का सिलसिला शुरू हो चुका है, जी हाँ! कोटा के सरकारी अस्पताल में पिछले 8 घंटे में 9 नवजात बच्चों की मौत हो गई है, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पुनिया ने ट्वीट करके ये जानकारी दी है.

राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष डॉ सतीश पुनिया ने अपने ट्वीट में लिखा, दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार की संवेदनहीनता की हद है, आज  कोटा के सरकारी अस्पताल में 8 घंटे में 9 नवजात बच्चों की मौत हो गई, पिछले साल यहीं 35 दिन में 107 बच्चों की मौत हुई थी, फिर भी सरकार नहीं चेती, जागो सरकार जागो, नहीं तो भागो।

कोटा में हुई नवजात बच्चों की मौत से राज्य की अशोक गहलोत सरकार कटघरे में है, माना जा रहा है कि बेहतर इलाज और सुविधाएं नहीं मिलने से बच्चों की मौत हो रही है. अस्पताल में बेहतर सुविधा मुहैया कराने के बजाय सरकार हाथ पे हाथ धरे बैठी है.

आपको बता दें कि पिछले साल राजस्थान के कोटा के जेके लोन अस्पताल में 35 दिन में 107 बच्चों की मौत हुई थी, यहीं हाल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृहनगर जोधपुर में देखा गया था, जहाँ बेहतर इलाज और सुविधाएं नहीं मिलने से डॉ. सम्पूर्णानंद मेडिकल कॉलेज में महीनेभर में 146 बच्चे दम तोड़ चुके थे, सरकार पिछली बार हुई गलतियों से सबक नहीं ले रही है. अगर सुविधाएं बेहतर नहीं की गई तो बच्चों की मौत का आंकड़ा बढ़ भी सकता है.

loading...