किसान आंदोलन में हो सकता है कोरोना विस्फोट, सिंघु बॉर्डर पर दो IPS अधिकारी निकले कोरोना पॉजिटिव

कृषि कानून के खिलाफ पिछले लगभग 15 दिनों से किसान संगठन आंदोलन कर रहे हैं, केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच अबतक कई दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन कोई हल नहीं निकल सका है, इन सबके बीच एक अहम् खबर सामने आ रही है।

खबर यह है कि सिंघु बॉर्डर पर तैनात दो आईपीएस अधिकारी कोरोना पॉजिटिव निकले हैं, सिंघु बॉर्डर पर पुलिस बल का नेतृत्व कर रहे एक डीसीपी और एडीसीपी कोरोना वायरस पॉजिटिव आए गए हैं। यह जनकारी दिल्ली पुलिस ने दी है। लोग आशंका जता रहे हैं कहीं किसान आंदोलन में कोरोना विस्फोट न हो जाए. कुछ लोगों का मानना यह भी है कि कोरोना का हवाला देकर सरकार प्रदर्शनकारियों को हटा भी सकती है।

बता दें कि सिंघु बॉर्डर पर किसान कृषि कानूनों के खिलाफ बड़ी संख्या विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। सिंघु बॉर्डर वही जगह है जहां से किसान अब तक आंदोलन की रणनीति तय करते आए हैं। यहीं पर किसानों बैठकें भी होती हैं। यहीं से किसान अब तक अपनी रणनीति की घोषणा करते आए हैं। कुल मिलाकर किसानों के आंदोलन के लिहाज से सिंघु बॉर्डर काफी अहम है। अब यहीं पर दो अधिकारियों के कोरोना पॉजिटिव होने से स्थिति बदल गई है.

बता दें कि इससे पहले किसान आंदोलन में शामिल कई किसानों को तेज बुखार होने की खबरें आ चुकी है। हालात की गंभीरता को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए थे कि वे धरने पर बैठे ऐसे किसानों की लिस्ट तैयार करें, जिन्हें तेज बुखार है। ऐसे किसानों की मुफ्त में कोरोना जांच की जाएगी। अगर कोई किसान संक्रमित मिलता है तो उसे उच्च स्तर पर इलाज की सुविधा दी जाएगी।