फरहान जुबैरी जहाँ भी छिपा हो उसे तत्काल गिरफ्तार करो, योगी सरकार ने पुलिस को दिए सख्त आदेश

फ़्रांस का विरोध करने के बहानें इस्लामिक आतंकियों का समर्थन करने वालों के खिलाफ अब उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार कड़ा रुख अख्तियार कर रही है…अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी ( AMU ) के छात्रनेता फरहान जुबैरी ने न सिर्फ फ़्रांस के खिलाफ जहर उगला था बल्कि इस्लामिक आतंकियों का समर्थन भी किया था…वीडियो वायरल होनें के बाद से ही इसके गिरफ़्तारी की मांग की जा रही है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के छात्रनेता फरहान जुबैरी ( के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. मुख्यमंत्री ने जुबैरी की तत्काल गिरफ़्तारी के आदेश दिए हैं. जुबैरी ने ईसाइयों के कत्लेआम को जायज ठहराया था. उसने अपने इस बयान का वीडियो ट्विटर पर भी शेयर किया था.

फरहान जुबैरी ने कहा था कि अगर उनके (पैगंबर मोहम्मद) खिलाफ कोई गुस्ताखी भरी हरकत की तो हम उसका सिर तन से जुदा कर देंगे. जुबेरी ने आगे कहा कि जिसकी खातिर में जिंदगी में हैं और हम जिसकी उम्मत मे हैं, अगर उनके लिए कोई गलत चीज करेगा तो हम बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेंगे।

वीडियो वायरल करने के बाद से ही फरहान जुबैरी फरार गिरफ्तार होनें के डर से फरार है. अब पुलिस ने उसके खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर गिरफ़्तारी के लिए दबिश दे रही है.

गौरतलब है कि पिछले दिनों फ्रांस में एक टीचर ने क्लास के अंदर पैगम्बर मोहम्मद का कार्टून दिखाया तो एक मुस्लिम छात्र ने टीचर का गला काट दिया, यही नहीं एक सख्श ने अल्लाह-हु-अकबर चिल्लाते हुए चर्च में घुसकर एक महिला का गला काट दिया, दो अन्य लोगों को भी मौत के घाट उतार दिया। इन दोनों घटनाओं को फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रो ने इस्लामिक आतंकवाद करार दिया, साथ ही इस्लामिक आतंकवाद के विरुद्ध ठोस कदम भी उठाने शुरू कर दिए, जो अब देश-दुनिया के कट्टरपंथी मुस्लिमों को रास नहीं आ रहा है।

भारत के भी कट्टरपंथी मुस्लिम फ़्रांस के खिलाफ जहर उगल रहे हैं, जबकि भारत ने आतंकवाद को जड़ से मिटाने के लिए फ़्रांस के खिलाफ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका आधिकारिक ऐलान किया।