फ़्रांस के समर्थन में उतरा इस्लामिक मुल्क UAE, पैगंबर मोहम्मद के कार्टून को लेकर कही बड़ी बात

पैगंबर मोहम्मद के कॉर्टून को लेकर एक तरफ कुछ इस्लामिक मुल्कों में फ़्रांस के खिलाफ नाराजगी देखने को मिल रही है तो वहीँ अब इस्लामिक मुल्क संयुक्त अरब अमीरात ( UAE ) ने फ़्रांस का समर्थन किया है, अबूधाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सेना के डेप्युटी सुप्रीम कमांडर मोहम्मद बिन जायेद अल नाहयान ने फ्रांस के नीस शहर में हुए आतंकी हमले की कड़ी निंदा की है।

क्राउन प्रिंस ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से टेलिफोन पर बातचीत की और आतंकी हमले के पीड़ितों के प्रति अपनी संवेदना जाहिर की. क्राउन प्रिंस ने घायल लोगों के जल्द स्वस्थ होने की शुभकामनाएं दीं. शेख मोहम्मद ने कहा कि इस तरह की गतिविधियां शांति, सहिष्णुता और प्यार का पाठ पढ़ाने वाले सभी धर्मों के सिद्धांतों और मूल्यों के खिलाफ हैं।

क्राउन प्रिंस ने हेट स्पीच को सीधे तौर पर खारिज करते हुए कहा है कि इससे लोगों के आपसी रिश्तों को नुकसान पहुंचता है और अतिवादी विचारधारा को बढ़ावा मिलता है. यूएई के क्राउन प्रिंस ने कहा कि अपराध, हिंसा और आतंकवाद का किसी भी तरह से बचाव करना गलत है।

शेख मोहम्मद ने कहा कि पैगंबर मोहम्मद के लिए मुसलमानों के मन में अपार आस्था है लेकिन इस मुद्दे को हिंसा से जोड़ना और इसका राजनीतिकरण करना बिल्कुल अस्वीकार्य है. बता दें कि फ्रांस की व्यंग्यात्मक मैगजीन शार्ली हेब्दो में पैगंबर मोहम्मद के कार्टून फिर से छापे गए थे जिसे लेकर मुस्लिम देश नाराज हो गए।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों फ्रांस में एक टीचर ने क्लास के अंदर पैगम्बर मोहम्मद का कार्टून दिखाया था. जिसके बाद एक स्टूडेंट ने उस टीचर की हत्या कर दी. हालांकि बाद में उस स्टूडेंट को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था. इस वारदात के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने इसे इस्लामी आंतकवाद करार दिया और कहा कि इस्लाम हमारा भविष्य हथियाना चाहता है, जो कभी नहीं होगा. साथ ही उन्होंने पैगम्बर मोहम्मद के कार्टून जारी रखने की बात कही थी।