ट्विटर ने भारत सरकार से मांगी लिखित माफ़ी, दोबारा गलती न करने का दिया आश्वासन

भारत सरकार के सख्त रुख के बाद ट्विटर आखिरकार लाइन पर आ गया और लिखित माफ़ी मांग ली, अगर ट्विटर माफ़ी न माँगता तो मोदी सरकार ट्विटर को भारत में बैन भी कर सकती थी, इसके संकेत दे दिए थे, ट्विटर ने न सिर्फ माफ़ी मांगी बल्कि दोबारा ऐसी गलती न करने का आश्वाशन भी दिया।

बात दरअसल यह है कि माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने लेह को लद्दाख केंद्रशासित प्रदेश का हिस्सा बताने के बजाय इसे जम्मू कश्मीर का हिस्सा बताया। इससे पहले ट्विटर ने लेह व लद्दाख को चीन का हिस्सा बताया था। इसके बाद भारत की नरेंद्र मोदी सरकार ने जब ट्विटर से जवाब मांगा था साथ ही उसके प्रतिनिधियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की चेतावनी दी थी।

भारत का गलत नक्‍शा दिखाने के मामले में भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय द्वारा दी गई चेतावनी के बाद ट्विटर ने लिखित में माफी मांग ली है. साथ ही कहा है कि वह 30 नवंबर तक अपनी गलती सुधार कर सब कुछ ठीक कर लेगा।

9 नवंबर को Twitter ने लेह को केन्‍द्र शासित प्रदेश लद्दाख के बजाय जम्मू-कश्मीर के हिस्‍से के रूप में दिखाया था. इसके बाद मंत्रालय ने ट्विटर के ग्‍लोबल वाइस प्रेसिडेंट को भेजे गए अपने नोटिस में लिखा था कि ‘ट्विटर ने यह जान-बूझकर किया है. उसने लेह को जम्मू-कश्मीर के हिस्से के रूप में दिखाकर भारत की संप्रभु संसद की इच्छा को कम करने के लिए ये कदम उठाया है, जिसने लद्दाख को भारत का एक केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया था।बता दें कि लेह, केन्‍द्र शासित प्रदेश लद्दाख का मुख्‍यालय है।