महागठबंधन की हार के बाद तेजस्वी यादव ने निकाला चुनाव आयोग पर गुस्सा

बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन की हार के बाद पहली बार आज आरजेडी नेता और महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार रहे तेजस्वी यादव मीडिया के सामने आये। प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके तेजस्वी यादव ने अपनी हार का गुस्सा चुनाव आयोग पर निकाल दिया। इसके अलावा उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री की कुर्सी से उतर जाना चाहिए।

तेजस्वी यादव ने कहा कि काउंटिंग से एक दिन पहले रात में एक गाड़ी निकली जिसमें वैलेट पेपर ले जाया जा रहा था, चुनाव आयोग का नियम है कि पोस्टल बैलेट की गिनती पहले होती है। तेजस्वी यादव ने कहा कि चुनाव आयोग ने आरजेडी उम्मीदवारों के सात-सात सौ पोस्टल बैलट वोट रद्द कर दिए, उन्होंने कहा कि हमारे उम्मीदवारों को 10-15 सीट पर जानबूझकर 50 से कम वोटों से हराया गया. जबकि हम जीते थे। तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन हारा नहीं है बल्कि हराया गया है।

तेजस्वी ने कहा कि कई जगह तो सर्टिफिकेट लेकर छिनने का काम किया गया. वहां तो कैमरा ले जाने नहीं दिया जाता है, सीसीटीवी कैमरे का फुटेज निकालकर देखा जाएं। पोस्टल वोट को जानबूझकर रद्द कर दिया गया।

नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि जनता का जनादेश बदलाव के लिए था इसीलिए नीतीश कुमार तीसरे नम्बर पर चले गए। अगर नीतीश कुमार में थोड़ी भी अंतरात्मा और नैतिकता बची है तो जोड़-तोड़, गुणा-भाग करके CM की कुर्सी पर बैठने का शौक़ रखने वाले नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री की कुर्सी से उतर जाना चाहिए।