सुप्रीम कोर्ट में बोले सॉल्वे, क्या? उद्धव को गिरफ्तार किया जायेगा, उनपर भी अर्नब जैसा आरोप है!

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी की जमानत याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई, सुप्रीम कोर्ट के जज धनन्जय चंद्रचूड़ और जज इन्दिरा बनर्जी की पीठ अर्नब गोस्वामी की अंतरिम जमानत की अपील पर सुनवाई कर रही है। सुनवाई के दौरान जस्टिस धनञ्जय चंद्रचूड़ ने महाराष्ट्र सरकार तल्ख़ टिप्पणी की.

अर्नब गोस्वामी के लिए सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश सॉल्वे ने कहा कि कुछ दिनों पहले एक सरकारी कर्मचारी ने आत्महत्या की और अपनी सुसाईड नॉट में लिखा कि ठाकरे सरकार ने तनखाह नही दिया इसलिए मैँ बदहाली में आत्महत्या कर रहा हूँ, तो आपलोग उद्धव ठाकरे को गिरफ्तार करोगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मनोज चौधरी नाम के बस कंडक्टर ने आत्महत्या इसीलिए की क्योंकि उन्हें उनकी सैलरी नहीं मिली थी। सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीर के साथ उनका आखिरी पत्र भी शेयर किया जा रहा है। इसमें ठाकरे सरकार और शिवसेना लिखा हुआ है। कंडक्टर मनोज चौधरी ने अपने पत्र में एसटी निगम और ठाकरे सरकार को आत्महत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया।

महाराष्ट्र सरकार को फटकार लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर राज्य सरकार किसी व्यक्ति को निशाना बनाती है तो उसे पता होना चाहिए कि नागरिकों की स्वतंत्रता की रक्षा करने के लिए शीर्ष अदालत है। उच्चतम न्यायालय ने कहा कि अगर संवैधानिक अदालत हस्तेक्षप नहीं करती तो, हम निश्चित रूप से विनाश की राह पर चल रहे हैं।

उच्चतम न्यायालय ने कहा कि अगर किसी की निजी स्वतंत्रता का हनन हुआ तो वह न्याय पर आघात होगा। फिलहाल इस मामलें में सुनवाई जारी है, आज अर्नब को जमानत मिलने की उम्मीद है. अर्नब गोस्वामी इस समय तलोजा जेल में बंद हैं. इस जेल में तामम आतंकी और खूंखार गैंगस्टर भी हैं।