लाखों-करोड़ों किसान दिल्ली में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन उन्हें आतंकी बोला जा रहा है: संजय राऊत

कृषि कानून के विरोध में पंजाब के किसान दिल्ली कूच कर रहे हैं, एकात जत्थे दिल्ली पहुँच भी गए हैं, कुछ लोग इन किसानों का समर्थन कर रहे हैं तो कुछ लोग विरोध कर रहे हैं, इन सबके बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि किसानों के साथ आतंकवादी जैसा व्यवहार किया गया है, ये किसानों का अपमान है.

शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि किसान आंदोलन विश्व को एक संदेश है। लाखों-करोड़ों किसान दिल्ली की सीमा पर शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन आप उन्हें आतंकवादी, खालिस्तानी बोलते हो। ये पूरे विश्व के किसानों का अपमान है।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शानवाज हुसैन ने विरोधियों ओर निशाना साधते हुए कहा है कि किसानों की चिंता हम करते हैं और करते रहेंगे। किसान हमारे दिल में बसते हैं, किसानों को भड़काने का काम कोई न करें। हम जो फैसला लेते हैं वो किसानों के हित में होता है। लोगों के बीच गलतफहमी पैदा की जा रही है हमारी अपील है कि वो गलतफहमी के शिकार न हो

इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा था कई भारत सरकार किसानों से बातचीत करने के लिए तैयार है, उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस ने एक मैदान में किसानों के ठहरने की व्यवस्था की है. सभी किसान वहां एकत्रित हो जाएँ। भारत सरकार उनकी हर मांग पर विचार करने को तैयार है.

कृषि कानूनों के खिलाफ टिकरी बॉर्डर पर किसान प्रदर्शनकारी अभी भी डटे हुए हैं। किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए बॉर्डर पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात है। सिंघु बॉर्डर(दिल्ली-हरियाणा) पर किसानों के विरोध प्रदर्शन की वजह से यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, यात्रियों को कई किलोमीटर पैदल भी चलना पड़ रहा है। एक यात्री रामू ने बताया, “सारा रास्ता जाम है, 5-6 किलोमीटर पैदल आया हूं।