संजय निरुपम ने शिवसेना नेताओं को बताया भ्रस्टाचारी, कहा- जमा कर ली है अकूत सम्पत्ति, जांच होनी चाहिए

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार ( 24 नवंबर, 2020 ) को सुबह शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की और सरनाईक के बेटे बिहंग को गिरफ्तार कर लिया। शिवसेना ने ईडी की इस कार्यवाही को राजनीति से प्रेरित बताया।, कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने ईडी की इस कार्यवाही पर प्रतिक्रिया दी है. निरुपम ने कहा कि ED की कार्यवाही राजनीति से प्रेरित नहीं होना चाहिए, लेकिन भ्रस्टाचारियों के खिलाफ जांच भी जरुरी है. इसके अलावा संजय निरुपम ने शिवसेना नेताओं पर भ्रस्टाचार के गंभीर आरोप लगाए।

कांग्रेस के दिग्गज नेता संजय निरुपम ने एक वीडियो जारी करके कहा कि ED या कोई भी जांच एजेंसी राजनितिक विद्वेष से प्रेरित होकर कार्यवाही करती है तो मैं उसकी कड़ी निंदा करता हूँ, ऐसा नहीं होना चाहिए। लेकिन ये भी एक बहुत बड़ा सच है कि शिवसेना के नेताओं ने पिछले कुछ सालों में, दशकों में जमकर भ्रस्टाचार किया। अकूत की अवैध संपत्ति बना ली है. कोई न कोई तो इसकी जांच करेगा।

संजय निरुपम ने आगे कहा कि मुझे नहीं मालूम कि जिस विधायक के यहाँ ED की रेड़ पड़ी है, उन्होंने क्या-क्या किया है ये तो जांच के बाद ही पता चलेगा। लेकिन उनके जैसे ऐसे तमाम लोग हैं जिन्होनें बड़े पैमाने पे भ्रस्टाचार किया। कांग्रेस नेता ने कहा कि इन नेताओं के भ्रस्टाचार की जांच होनी चाहिए। इस जांच प्रक्रिया को राजनितिक द्वेष कहकर के टाला नहीं जाना चाहिए।

संजय निरुपम ने कहा कि स्व. बालासाहेब ठाकरे पूरी जिंदगी कांग्रेस को भ्रस्टाचारी कहते रहे लेकिन आसपास नहीं देखे, उनकी अपनी पार्टी में शिवसेना के लोगों ने जमकर भ्रस्टाचार किये। उन्होंने कहा कि महानगर पालिका भ्रस्टाचार का एक अड्डा है. उस भ्रस्टाचार की कमाई शिवसेना नेताओं के जेब में जा रही है. संजय निरुपम ने कहा की इसकी जांच तो होनी ही चाहिए। इस जांच के ऊपर किसी को एतराज करने की कोई आवश्यकता नहीं है.

शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक के बेटे की गिरफ्तारी के बाद संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र को बदनाम करने का षड़यंत्र है. महाराष्ट्र में एजेंसी का उपयोग कर कोई यहां की सरकार गिराना चाहता है तो वह मूर्ख है. उन्होंने कहा, कोई भी विधायक दबाव में नहीं आने वाला है. कुछ भी कर लो हम घुटने टेकने वाले नहीं हैं.