निकिता तोमर के पिता का छलका दर्द, अगर लव-जिहाद के खिलाफ कानून होता तो मेरी बेटी बच गई होती

एकतरफा प्यार में पगलाए तौसीफ ने परीक्षा देकर घर लौट रही बी.कॉम फाइनल ईयर की छात्रा निकिता तोमर की दिनदहाड़े गोली मारकर ह्त्या कर दी, घटना फरीदाबाद के बल्लबगढ़ की है। इस घटना के बाद देशभर में आक्रोश है। निकिता की हत्या मामले में फरीदाबाद पुलिस ने मुख्य आरोपी तौसिफ और उसके दोस्त रेहान को गिरफ्तार कर लिया गया है। कट्टा देने वाले अजरु को भी पुलिस ने दबोच लिया।

निकिता तोमर हत्याकांड को लव जिहाद से जोड़कर देखा जा रहा है क्योंकि तौसीफ निकिता पर धर्म परिवर्तन कर शादी करने दबाव डाल रहा था, लेकिन निकिता राजी नहीं हुई तो उसे दरिंदें बीच सड़क पर गोली मार दी।

हरियाणा में हुई इस वीभत्स घटना से पूरा देश थर्रा गया, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और गृह मंत्री अनिल विज ने कहा है की लव जिहाद के खिलाफ कानून बनानें पर सरकार विचार कर रही है। हरियाणा सरकार की इस घोषणा पर प्रतिक्रिया देते हुए निकिता तोमर के पिता ने कहा कि ये निर्णय बहुत पहले ही लिया जाना चाहिए था।

निकिता तोमर के पिता ने कहा कि अगर ‘लव जिहाद’ के विरुद्ध क़ानून होता तो शायद उनकी बेटी की जान नहीं जाती। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि इस मामले में सभी पक्षों को एक होकर सामने आना चाहिए और फैसला लेना चाहिए।

आपको बता दें कि निकिता तोमर की ह्त्या करने वाले तौसीफ से कांग्रेस के कनेक्शन सामने आये थे, मेवात के कांग्रेस विधायक आफताब आलम तौसीफ के परिवार के ही हैं.