अर्नब के समर्थन में सड़कों पर उतरे लोग, बुजुर्ग महिला के निकले आंसू, कहा-जल्द से जल्द रिहा करें

मुंबई पुलिस द्वारा गिरफ्तार किये गए रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को आज अलीबाग क्वारंटाइन सेंटर से तलोजा जेल भेज दिया गया. सुबह 9 बजे पुलिस वैन में अर्नब गोस्वामी को बैठाकर मुंबई पुलिस अलीबाग क्वारंटाइन सेंटर से तलोजा जेल गई।

अर्नब गोस्वामी को तलोजा जेल भेजे जानें के बाद लोगों में गुस्सा है, अर्नब को जल्द से जल्द रिहा करने की मांग को लेकर लोग सड़कों पर पर उतर रहे हैं, अर्नब के समर्थन में सड़क पर उतरी एक बुजुर्ग माता जी ने कहा कि अर्णब बहुत अच्छा आदमी है, उसके ऊपर जुल्म हो रहा है, अर्नब की रिहाई के लिए माता जी ने पूजा भी की.

माता जी ने कहा कि अर्नब बहुत अच्छा आदमी है, उसके खिलाफ जो ये सब करवा रहा है, उसका भला नहीं होगा। अर्नब को जल्द से जल्द रिहा किया जाना चाहिए, मेरे आंसू निकल रहे हैं.


अर्नब गोस्वामी को तलोजा जेल भेजे जानें के बाद रिटायर्ड मेजर जनरल जीडी बख्शी ने कहा है कि केंद्र सरकार और सुप्रीम कोर्ट को अर्नब मामलें में तत्काल दखल देना चाहिए क्योंकि जिस तलोजा जेल में अर्नब को ले जाया गया है वहां आतंकी दाऊद के गुर्गे हैं, अर्नब के साथ कुछ भी हो सकता है, जीडी बक्शी ने कहा कि अर्नब को सरबजीत सिंह नहीं बनाया जाना चाहिए।

बताते चलें कि अर्नब गोस्वामी ने अपनी जान को खतरा बताते हुए सुप्रीम कोर्ट से मदद की गुहार लगाई है. जेल जाते वक्त अर्नब गोस्वामी ने कहा था कि मुझे प्रताड़ित किया जा रहा है, सुबह 6 बजे मेरे साथ धक्कामुक्की की गई, मेरी जान को खतरा है, मुझे मेरे वकील से नहीं मिलने दिया जा रहा है।

अर्नब के इतना कहते ही पुलिस ने वैन को काले कपडे से ढक दिया, ताकि अर्नब बोल न पाएं, बोले भी तो उनकी आवाज कहीं रिकॉर्ड न हो पाए. अब देखना यह दिलचस्प होगा कि क्या अर्नब मामलें में सुप्रीम कोर्ट स्वतः संज्ञान लेती है या नहीं।