जहर उगलने से बाज नहीं आ रही हैं महबूबा मुफ्ती, अब कश्मीरी युवाओं को भड़का रही हैं

लगभग एक साल बाद रिहा हुई जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती जहर उगलने से बाज नहीं आ रही हैं, कश्मीर में 370 की बहाली तक तिरंगा झंडा न उठाने का बयान देकर आलोचना का शिकार हुई महबूबा कश्मीर के लोगों के नाम पर वहां के युवाओं को बरगला रही हैं? क्या महबूबा युवाओं को भड़का रहीं हैं? यह सब उनके दिए बयानों से साफ जाहिर होता है।

महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को कहा कि वह जम्मू-कश्मीर के युवाओं के भविष्य की रक्षा के लिए पूर्ववर्ती राज्य के विशेष दर्जे की बहाली के वास्ते किसी भी हद तक संघर्ष करेंगी। पीडीपी की युवा इकाई की ओर से आयोजित कार्यक्रम के बाद महबूबा ने कहा, हमने अपना जीवन जिया अब हमें युवाओं और उनके बच्चों के बारे में सोचना होगा। हमारे युवाओं के भविष्य की रक्षा के लिए हम किसी भी हद तक जा सकते हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि अतीत में उनकी पार्टी ने पुलिस कार्यबल की कथित ज्यादतियों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी और आतंकवादियों का आत्मसमर्पण कराया था, लेकिन अब पार्टी जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे की बहाली पर ध्यान केंद्रित करेगी। उन्होंने कहा कि इस संघर्ष में युवा भी उनके साथ हैं और उनका समर्थन उन्हें प्रोत्साहित करता है।