भारी जन दबाव के बाद उद्धव ठाकरे को आखिर लेना पड़ा ये बड़ा फैसला

भारी जनदबाव के बाद आखिर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने वो फैसला ले ही लिया, जिसका सबको बेसब्री से इन्तजार था, जी हाँ! ठाकरे ने शनिवार को ऐलान किया है कि प्रदेश में सोमवार से सभी धार्मिक स्थलों को खोला जाएगा। पूर्व में तमाम राजनीतिक विरोध के बावजूद धर्मस्थलों को ना खोलने वाली उद्धव सरकार ने अब सभी धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाजत दे दी है। इसके अलावा सरकार ने यह भी कहा है कि वह राज्य में स्कूलों को खोलने पर विचार कर रही है।

उद्धव ने कहा, हम सभी एहतियाती कदम उठाते हुए दिवाली बाद स्‍कूल फिर से खोलने पर विचार कर रहे हैं। धार्मिक स्‍थलों को भी खोलने की मंजूरी दी जाएगी। सोमवार से सभी धर्मस्थल खोले जा रहे हैं। उद्धव ने कहा, प्रदूषण से कोरोना का असर बढ़ सकता हे। मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे पटाखे और अतिशबाजी चलाने की जगह मिट्टी के दीये जलाएं। दिवाली के बाद 15 दिन अहम होंगे, हमें सावधान रहना होगा ताकि फिर से लॉकडाउन लगाने की नौबत न आए।

कोरोना को लेकर पूरी सावधानी बरतने पर जोर देते हुए उद्धव ने कहा, ‘भीड़ में बिना मास्क के घूमने वाला कोविड-19 का मरीज करीब 400 लोगों को संक्रमित कर सकता है। इससे पहले एक वेबिनार बैठक में मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा था कि वैश्विक स्थिति को देखते हुए कोरोना की एक और लहर की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है।