UP कैबिनेट में पास हुआ ‘लव जिहाद अध्यादेश’, नाम छिपाकर शादी करने पर मिलेगी 10 साल की सजा

देशभर में लव जिहाद को लेकर छिड़ी बहस के बीच उत्तर प्रदेश कैबिनेट में मंगलवार ( 24 नवंबर, 2020 ) को ‘लव जिहाद अध्यादेश’, पास हो गया, नाम छिपाकर शादी करने वालों को 10 साल की सजा मिलेगी। ऐसा इसमें प्रावधान है. अध्यादेश के मुताबिक, दूसरे धर्म में शादी करने पर अब डीएम की इजाजत लेनी होगी।

योगी सरकार के अध्यादेश में दूसरे धर्म में शादी करने के लिए संबंधित जिले के जिलाधिकारी से इजाजत लेना अनिवार्य होगा। इसके लिए शादी से पहले 2 माह की नोटिस देना होगा। बिना अनुमति लिए शादी करने या धर्म परिवर्तन करने पर 6 महीने से लेकर 3 साल तक की सजा के साथ 10 हजार का जुर्माना भी देना पड़ेगा।

इसके अलावा अध्यादेश में नाम छिपाकर शादी करने वाले के लिए 10 साल की सजा का भी प्रावधान किया गया है। इसके अलावा गैरकानूनी तरीके से धर्म परिवर्तन पर एक से 10 साल तक की सजा होगी। इसके अलावा सामूहिक रूप से गैरकानूनी तरीके से धर्म परिवर्तन करने पर जहां 10 साल तक सजा हो सकती है, वहीं 50 हजार तक जुर्माना भी देना पड़ सकता है। नीचे पढ़िए पूरा अध्यादेश।

आपको बता दें कि हरियाणा के बल्लबगढ़ में निकिता तोमर मर्डर केस के बाद देशभर में लव-जिहाद पर कानून बनानें की मांगे उठने लगी. लव जिहाद के मुद्दे को गम्भीरता से लेते हुए पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लव जिहाद के खिलाफ कानून बनानें का ऐलान किया, और अब अध्यादेश भी पास हो गया।