कपिल सिब्बल ने बोला कांग्रेस नेतृत्व पर हमला, कहा- इस पार्टी से अब कोई उम्मीद नहीं

बिहार विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस में बगावत हो गई है, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने एक बार फिर मोर्चा खोला है। कपिल सिब्बल ने कांग्रेस नेतृत्व के काम करने के तरीक़े पर सवाल उठा दिए हैं। कपिल सिब्बल का कहना है कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) सेलेक्शन प्रक्रिया में लोकतांत्रिक प्रक्रिया की अनदेखी होती है। उन्होंने कहा कि हार के बाद भी कांग्रेस नेतृत्व सबक नहीं लेना चाहता। जनता कांग्रेस को ठोस विकल्प मानती ही नहीं? कपिल सिब्बल ने ये सभी बातें अंग्रेजी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस को दिए गए इंटरव्यू में कही।

कपिल सिब्बल ने कहा कि पिछले 6 साल में कांग्रेस पार्टी ने आत्मचिंतन नहीं किया है. ऐसे में आप क्या उम्मीद कर सकते हैं कि पार्टी अब आत्मचिंतन करेगी। कपिल सिब्बल ने कहा कि देश के लोग कांग्रेस को एक प्रभावी विकल्प नहीं मानते। उन्होंने कहा कि बिहार में तो हारे ही गुजरात उपचुनाव में सभी सीटों पर चुनाव हार गए, तीन उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई. लोकसभा चुनाव में भी हमने गुजरात में एक भी सीट नहीं जीती थी. उत्तर प्रदेश के उपचुनाव में भी कांग्रेस का बुराहाल रहा. यूपी उपचुनाव में कांग्रेस के कुछ उम्मीदवारों को 2% से भी कम वोट मिले।

कपिल सिब्बल ने कहा कि पार्टी के खिलाफ मैं सार्वजनिक रूप से अपने विचार व्यक्त करने के लिए विवश हूँ, इसके अलावा ऐसा कोई मंच नहीं है जिसपर मैं अपने विचार व्यक्त कर सकूँ। हालाँकि कपिल सिब्बल ने यह भी कहा कि मैं एक कांग्रेसी हूं और कांग्रेसी ही रहूंगा।

पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा कि हमें पता है कांग्रेस के साथ क्या दिक्कत है. संगठन के स्तर पर हमें पता है कि क्या गड़बड़ है. मैं मानता हूं हमारे पास सभी समस्याओं का समाधान है. कांग्रेस पार्टी को भी इनका समाधान पता है. लेकिन वह इसका समाधान निकालना नहीं चाहती. अगर जल्द ही समाधान नहीं निकाला गया तो चुनावों में हार होती रहेगी।

loading...