केजरीवाल ने कहा, पानी से भी फ़ैल रहा कोरोना, इसलिए घर पर ही मनाएं छठ

आज छठ पूजा है, लोकआस्था का पर्व छठ पूजा तीन दिनों तक मनाया जाता है, ख़ास बात यह है कि पानी में खड़े होकर ही उगते और डूबते सूरज को अर्ध्य दिया जाता है, ऐसे में तालाब और नदी की जरूरत पड़ती है, लेकिन इस बार दिल्ली में लोग किसी नदी या तालाब में छठ पूजा नहीं मना पाएंगे। कोरोना का हवाला देते हुए केजरीवाल सरकार ने रोक लगा दी है. केजरीवाल के इस फैसले का जमकर विरोध हो रहा है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा की छठ बहुत पवित्र त्यौहार है, इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। ये महामारी का दौर है, इस बार खुले तालाब में हमारे एक साथ उतरने से कोरोना फैलने का डर है। आइए इस बार सुरक्षित तरीके से घर पर छठ मनाते हैं। केजरीवाल का कहना है कि तालाब में एक साथ उतरने से पानी के जरिये कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाएगा। बेहतर है कि इस बार छठ घर ही मनाएं।

केजरीवाल सरकार ने छठ पूजा को लेकर दिशा-निर्देश दिए हैं. सरकार ने अपने आदेश में कहा है कि इस बार दिल्ली में सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा मनाने की छूट नहीं होगी. दिल्ली सरकार ने सभी डीएम और पुलिस के सभी डीडीसी को पत्र लिखकर कहा है कि यह सुनिश्‍चित कराएं कि पब्‍लिक प्‍लेस पर छठ पूजा नहीं हो।