शाम तक नहीं हुई अर्नब की रिहाई तो ठाकरे सरकार के खिलाफ राजघाट पर होगा सत्याग्रह, कपिल मिश्रा ने किया ऐलान

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने बुधवार ( 4 नवम्बर, 2020 ) को सुबह लगभग साढ़े 6 बजे उनके घर से गिरफ्तार कर लिया। आत्महत्या के लिए उकसाने के दो साल पुराने बंद केस में अर्नब की गिरफ़्तारी हुई।

अर्नब को गिरफ्तार करने के बाद मुंबई की रायगढ़ पुलिस ने उन्हें अलीबाग स्थित एक अदालत में पेश किया, कोर्ट ने अर्नब को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने ऐलान किया है कि अगर आज शाम तक अर्नब गोस्वामी की रिहाई नहीं हुई तो ठाकरे सरकार के खिलाफ राजघाट पर सत्याग्रह होगा।

भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने अपनें ट्वीट में लिखा, अगर आज शाम तक अर्णब गोस्वामी की रिहाई नहीं होती तो कल सुबह 9 बजे से ठाकरे सरकार के पाप, अपराध, अत्याचार और अन्याय के खिलाफ राजघाट पर सत्याग्रह होगा। उन्होंने आगे लिखा, सरकारी गुंडागर्दी, संविधान की हत्या, मीडिया का गला घोटने के खिलाफ सड़क पर उतरना जरूरी है.

आपको बता दें कि अर्नब गोस्वामी की जमानत याचिका पर सुनवाई दो दिन टल चुकी है, आज दोपहर 11 बजे बॉम्बे हाईकोर्ट में अर्नब की जमानत पर सुनवाई होगी।

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन चीफ अर्नब गोस्वामी को गिरफ्तार करने के लिए महाराष्ट्र सरकार के गृह मंत्रालय ने 40 सदस्यीय टीम का गठन किया था. गृह विभाग ने कोंकण रेंज के महानिरीक्षक संजय मोहिते को नेतृत्व की जिम्मेदारी सौंपी. संजय मोहिते ने अर्नब को गिरफ्तार करने की योजना का मसौदा तैयार किया, जबकि इसे अंजाम देने की जिम्मेदारी हाई-प्रोफाइल एनकाउंटर स्पेशलिस्ट सचिन वेज को सौंपी गई।