देशभर में हो रही हामिद अंसारी की थू-थू, वरिष्ठ पत्रकार ने कहा- शर्म आती है इनकी आतंकी सोंच पर

भारत के पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने एक बार फिर जहर उगला है, ये वही हामिद अंसारी हैं जो कई सालों तक भारत के उपराष्ट्रपति रहे उसके बावजूद इन्होनें कहा था कि भारत में डर लगता है। अब हामिद अंसारी ने कहा है कि राष्ट्रवाद एक बीमारी है, कोरोना वायरस संकट से पहले ही भारतीय समाज दो अन्य महामारियों- धार्मिक कट्टरता और “आक्रामक राष्ट्रवाद” का शिकार हो चुका।

हामिद अंसारी के इस बयान के बाद वरिष्ठ पत्रकार अशोक श्रीवास्तव ने कहा है कि हामिद अंसारी जैसे लोगों की आतंको सोंच पर शर्म आती है, डीडी न्यूज़ के पत्रकार अशोक श्रीवास्तव ने हामिद अंसारी की सोंच पर प्रहार करते हुए कहा कि बुद्धिजीवी कुछ भी व्याख्याएं करते रहें पर आम आदमी के लिए “राष्ट्रवाद” का मतलब होता है -देश से प्रेम! पर हामिद अंसारी को देश से प्रेम करना बीमारी लगता है! शर्म आती है ऐसी कट्टर, आतंकी सोच और माफिया का रिश्तेदार देश का उप राष्ट्रपति था।

गौरतलब है कि हामिद अंसारी रिश्ते में मुख़्तार अंसारी के चाचा लगते हैं, मुख़्तार अंसारी एक कुख्यात अपराधी है, उसके ऊपर चोरी, डकैती, ह्त्या, जमीन हड़पने के बहुत से मुकदमे दर्ज हैं, इस समय मुख़्तार अंसारी पंजाब की जेल में बंद है, यूपी पुलिस उसे राज्य में वापस लाना चाहती है लेकिन वो बीमारी का बहाना बना ले रहा है.

बता दें कि हामिद अंसारी ने कांग्रेस नेता शशि थरूर की पुस्तक ‘द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग’ के डिजिटल विमोचन के मौके पर कहा कि कोविड एक बहुत ही बुरी महामारी है, लेकिन इससे पहले ही हमारा समाज दो महामारियों- धार्मिक कट्टरता और आक्रामक राष्ट्रवाद का शिकार हो गया था। उन्होंने यह भी कहा कि धार्मिक कट्टरता और उग्र राष्ट्रवाद के मुकाबले देशप्रेम ज्यादा सकारात्मक अवधारणा है।

हामिद अंसारी के इस बयान के बाद देशभर में उनकी जमकर आलोचना हो रही है, ये पहला मौका नहीं है जब उन्होंने ऐसा वाहियात बयान दिया हो. इससे पहले भी कई विवादित बयान दे चुके हैं।