पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं के संपर्क में थे नगरोटा में ढ़ेर किये गए आतंकी, सामने आया बातचीत का सबूत

हाल ही में भारतीय सुरक्षाबलों ने जम्मू कश्मीर के नगरोटा में चार पाकिस्तानी आतंकवादियों को मार गिराया था, ये आतंकी पाकिस्तानी थे और जैश-ए-मोहम्मद के थे। दक्षिण कश्मीर में बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम देने के इरादे से आये थे लेकिन सुरक्षाबलों ने इनके नापाक मंसूबों पर पानी फेर दिया।

मारे गए आतंकियों के पास से कुछ ऐसे सबूत लगे हैं जिससे साबित होता है कि ये पाकिस्तान में बैठे अपने आतंकी आकाओं के सम्पर्क में थे।

आतंकियों के पास से डिजिटल मोबाइल रेडियो, कराची में बना जूता और मैसेज मिली ये चीजें साफ इशारा करती हैं कि आतंकियों का पाकिस्‍तानी कनेक्‍शन है और वे निरंतर अपने हैंडलर से संपर्क में थे. आतंकियों के पास से पाकिस्तान का डिजिटल मोबाइल रेडियो बरामद हुआ है।

पाकिस्तान में बैठे आकाओं से आतंकियों की क्या बात हो रही थी, ये उस मोबाइल के मैसेज में मिला. डीएमआर पर आतंकियों को मैसेज किया गया कि कहां पहुंचे. क्या सूरत-ए-हाल है. कोई मुश्किल तो नहीं है.

इंटेलिजेंस सूत्रों के हवाले से मीडिया ने दावा किया है कि डिजिटल मोबाइल रेडियो पाकिस्तानी कंपनी माइक्रो इलेक्ट्रॉनिक्स द्वारा निर्मित है. डिजिटल मोबाइल रेडियो पर मैसेज स्पष्ट रूप से दिखाते हैं कि घुसपैठ करने वाले आतंकवादी सीमा पार अपने आकाओं के साथ लगातार संपर्क में थे।

गौरतलब है कि मारे गए आतंकी चावल की बोरी से भरे ट्रक में सवार होकर दक्षिण कश्मीर में दाखिल होना चाहते थे लेकिन सुरक्षाबलों ने नगरोटा टोल प्लाजा के पास मारा गिराया। आतंकियों के पास से भारी मात्रा में हथियार बरामद हुए थे।

loading...