आधुनिक जिन्ना है हामिद अंसारी, इसके पूरे कार्यकाल की होनी चाहिए जांच: सुरेश चव्हाणके

भारत के पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने एक बार फिर जहर उगला है, ये वही हामिद अंसारी हैं जो कई सालों तक भारत के उपराष्ट्रपति रहे उसके बावजूद इन्होनें कहा था कि भारत में डर लगता है। अब हामिद अंसारी ने कहा है कि कोरोना वायरस संकट से पहले ही भारतीय समाज दो अन्य महामारियों- धार्मिक कट्टरता और “आक्रामक राष्ट्रवाद” का शिकार हो चुका। हामिद अंसारी के इस बयान के बाद वरिष्ठ पत्रकार सुरेश चव्हाणके ने उन्हें आधुनिक जिन्ना करार दिया है साथ ही उनके पूरे कार्यकाल की जांच कराये जानें की मांग की है.

सुदर्शन न्यूज़ के मालिक सुरेश चव्हाणके ने अपने ट्वीट में लिखा, हामिद अंसारी ने फिर टांग उपर की है. इस आधुनिक जिन्ना का असल स्वरुप हमने देश को तब ही बता दिया था जब ये उपराष्ट्रपति जैसे गौरवशाली पद की गरिमा गिरा रहा था. ये इस्लामिक कट्टरवाद से नहीं बल्कि राष्ट्रवाद से डरता है. इसके पूरे कार्यकाल की जाँच हो.

आपको बता दें कि हामिद अंसारी ने कांग्रेस नेता शशि थरूर की पुस्तक ‘द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग’ के डिजिटल विमोचन के मौके पर कहा कि कोविड एक बहुत ही बुरी महामारी है, लेकिन इससे पहले ही हमारा समाज दो महामारियों- धार्मिक कट्टरता और आक्रामक राष्ट्रवाद का शिकार हो गया था। उन्होंने यह भी कहा कि धार्मिक कट्टरता और उग्र राष्ट्रवाद के मुकाबले देशप्रेम ज्यादा सकारात्मक अवधारणा है।

आपको बता दें कि इससे पहले हामिद अंसारी ने भारतीय सेना के शौर्य पर सवाल उठाते हुए एयरस्ट्राइक का भी सबूत माँगा था। उप राष्ट्रपति के तौर पर अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद से ही हामिद अंसारी विवादों में हैं। वे देश के हर जिले में शरीयत अदालत के गठन के विचार का समर्थन कर चुके हैं। उप राष्ट्रपति कार्यकाल पूरा होने के बाद उन्होंने एक बयान जारी कर कहा था कि बतौर नागरिक वे असुरक्षित और असहज महसूस कर रहे हैं। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में जिन्ना की तस्वीर लगाने का समर्थन कर रहे छात्रों के पक्ष में भी वे खड़े हुए थे.

loading...