लखनऊ रिवर फ्रंट घोटाला: चीफ इंजीनियर रूप सिंह यादव गिरफ्तार, कई बड़ी मछलियों पर लटकी तलवार!

सपा सरकार में हुए लखनऊ के गोमती रिवर फ्रंट घोटाले में सीबीआई ने शुक्रवार को सिंचाई विभाग के तत्कालीन चीफ इंजीनियर रूप सिंह यादव को गिरफ्तार किया है।

दरअसल योगी सरकार ने सत्ता में आने के बाद रिवर फ्रंट घोटाले की जांच का दिया था। इसके बाद मामले की जांच शुरू हो गई। सीबीआई के बाद अब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मनी लांड्रिंग का मुकदमा दर्ज किया। ईडी ने आठ में से पांच आरोपियों को पूछताछ भी की।

आपको बता दें कि सीबीआई लखनऊ की एंटी करप्शन ब्रांच ने प्रदेश सरकार के निर्देश पर सिंचाई विभाग की ओर से लखनऊ के गोमतीनगर थाने में दर्ज कराए गए मुकदमे को आधार बनाकर 30 नवंबर 2017 में नया मुकदमा दर्ज किया था। रूप सिंह यादव को अखिलेश यादव की सरकार में बेहद ताकतवर माना जाता था.

इस मामले में काम पूरा नहीं हुआ और और बजट (1513 करोड़) में से 1437 करोड़ खर्च कर दिये गए। काम 60 फीसदी भी नही हुआ। पहले गोमतिनगर थाने में एफआईआर हुई थी। सरकार ने जस्टिस आलोक सिन्हा न्यायिक समिति से भी जांच कराई थी। बाद में इस मामले में सीबीआई को जांच सौंपी गई। रूप सिंह यादव के अलावा दो आईएएस अफसरों पर भी गिरफ़्तारी की तलवार लटक गई है।