फ़्रांस के राष्ट्रपति ने पाकिस्तान को दिया बड़ा झटका, डिफेंस सिस्टम से जुड़ा है मामला

फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रो कट्टरपंथियों के खिलाफ ताबड़तोड़ एक्शन ले रहे हैं, मैक्रों ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को करारा झटका दिया है। इमरान की मांग को ठुकरा दिया है। पहली बार फ्रांस ने मदद देने से मना किया है। आपको बता दें कि फ्रांस में हुए आतंकी हमलें की निंदा करने के बजाय पाकिस्तान फ़्रांस पर ही दोष मढ़ रहा था.

पाकिस्तान ने मिराज फाइटर जेट्स, एयर डिफेंस सिस्टम और अगोस्टा 90बी क्लास पनडुब्बियों के अपने बेड़े को अपग्रेड करने में मदद की अपील की थी। फ्रांस ने मदद देने से मना कर दिया।

फ्रांस ने कतर से कहा कि वह पाकिस्तानी मूल के तकनीशियनों को फाइटर जेट पर काम करने से मना कर दें, क्योंकि वे लोग तकनीकि जानकारी पाकिस्तान को शेयर कर सकते हैं। ये आतंकियों के हाथ भी लग सकता है। ये फाइटर जेट भारत के डिफेंस की सबसे अहम कड़ी है।

जानकारों का मानना है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के पैगंबर मोहम्मद के कार्टूनों को समर्थन देने की आलोचना की थी, जिसकी वजह से फ्रांस ने ये कदम उठाया है।

इससे पहले फ़्रांस ने अपने देश से 118 पाकिस्तानी मुसलमानों को बाहर भगा दिया, उन सबको पाकिस्तान जाने वाली फ्लाइट्स में बिठा दिया गया है, इसके साथ साथ फ़्रांस ने 183 पाकिस्तानी लोगों का वीजा भी रद्द कर दिया है।

फ़्रांस की विपक्ष की नेता मरीन ला पेन ने पाकिस्तान पर बैन लगाने की मांग भी सरकार से कर दी है, जानकारी के अनुसार फ़्रांस पाकिस्तान पर बैन भी लगा सकता है जिसके बाद पाकिस्तानी नागरिक फ़्रांस नहीं जा सकेंगे। अगर फ़्रांस ने बैन लगाया तो पाकिस्तान के खिलाफ बड़ा झटका होगा।