राजस्थान: दिवाली पर पटाखे नहीं जला पाएंगे हिन्दू, अगर जलाया तो होगी कार्यवाही, CM गहलोत का आदेश

जयपुर, 2 नवंबर: भारत को एक धर्मनिरपेक्ष देश कहा जाता है, लेकिन ये धर्मनिरपेक्षता सिर्फ हिन्दुओं पर लागू होती है..बात जब मुस्लिमों की आती है तो सारी धर्मनिरपेक्षता धरी की धरी रह जाती है.!

दरअसल हिन्दुओं का जब भी कोई त्यौहार होता है खासकर दिवाली तब तमाम सेलिब्रिटी, राज्य सरकारें ज्ञान बांटने आ जाते है कि पटाखे मत फोड़ो नहीं तो पॉल्यूशन फैलेगा। इस बार दिवाली पर राजस्थान के लोग पटाखे नहीं जला पाएंगे, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पटाखों की बिक्री और आतिशबाजी पर रोक लगा दी है, अगर इसके बावजूद किसी ने पटाखा जलाने की हिमाकत की तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही के आदेश भी दिए हैं.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि पटाखों से निकलने वाले विषैले धुएं से कोविड-19 संक्रमित रोगियों एवं आमजन के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए प्रदेश में पटाखों की बिक्री एवं आतिशबाजी पर रोक लगाने तथा बिना फिटनेस के धुआं उगलने वाले वाहनों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

एक अन्य ट्वीट में उन्होनें लिखा, कोरोना महामारी के इस चुनौतीपूर्ण समय में प्रदेशवासियों की जीवन की रक्षा सरकार के लिए सर्वोपरि है। निवास पर प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण की स्थिति, ‘नो मास्क-नो एंट्री’ तथा ‘शुद्ध के लिए युद्ध’ अभियान की समीक्षा की। बैठक में अनलॉक-6 की गाइडलाइन पर भी चर्चा की और दिशा-निर्देश भी दिए

विदेशों का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जर्मनी, यूके, फ्रांस, इटली, स्पेन जैसे विकसित देशों में कोरोना की दूसरी लहर शुरू हो गई है। कई देशों को तो पुनः लॉकडाउन लगाने पर मजबूर होना पड़ा है। हमारे यहां भी ऐसी स्थिति उत्पन्न न हो जाए, इसे देखते हुए हमें भी सावधानी बरतनी होगी।

हालाँकि इस बार तो सरकारें कोरोना का हवाला दे रही हैं. लेकिन इससे पहले जब कोरोना नहीं होता था तब भी पटाखे जलाने का विरोध करती आई हैं, हिन्दू लोग एक ही दिन सिर्फ दिवाली को पटाखे जलाते हैं उससे भी दिक्कत है.