UP: “भारत समाचार” के पत्रकार पर दर्ज हुई FIR, इस मामलें में अफवाह फैलानें का आरोप

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से संचालित होने वाले न्यूज़ चैनल ‘भारत समाचार’ और एक अन्य न्यूज़ चैनल के पत्रकार पर एफआईआर दर्ज हुई है, पत्रकारों के खिलाफ यूपी के फतेहपुर में एफआईआर दर्ज हुई है. दोनों पत्रकारों पर दो नाबालिग दलित बच्चियों के रेप और उनकी हत्या के बारे में सोशल मीडिया पर फेक न्यूज फैलाने का आरोप है।

दोनों पत्रकारों के खिलाफ फेक न्यूज फैलाने की शिकायत असोथर थाना प्रभारी रणजीत बहादुर सिंह ने की थी. पुलिस अधिकारी ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए साफ किया कि दोनों नाबालिग लड़कियों की मौत तालाब में डूबने से हुई है, उनकी आंखों और शरीर के किसी भी हिस्से को कोई नुकसान नहीं हुआ है।

थाना प्रभारी रणजीत सिंह ने एफआईआर में आरोप लगाया था कि जब वह चिचनी गांव में गश्त पहुंचे, तो उन्हें पता चला कि एक निजी चैनल के दो पत्रकार ट्विटर पर दो नाबालिग लड़कियों की हत्या और रेप की झूठी खबर फैला रहे हैं. पुलिस अधिकारी ने साफ किया कि दोनों बच्चियों की मौत एक तालाब में डूबने से हुई थी, लेकिन पत्रकार दलित और अन्य समुदायों के बीच विवाद बढ़ाने के मकसद से फर्जी खबरें फैला रहे थे. रणजीत सिंह ने कहा कि दोनों पत्रकार ट्विटर पर बेबुनियाद खबरें फैला रहे थे.

एफआईआर कॉपी

फतेहपुर के चिचनी में एक तालाब में दो नाबालिग बहनों के शव मिले थे, जिसके बाद परिवार ने रेप और हत्या का आरोप लगाया था. लेकिन पुलिस ने कहा था कि लड़कियों की मौत डूबने से हुई है.

आपको बता दें कि भारत समाचार न्यूज़ चैनल के सम्पादक ब्रजेश मिश्रा हाथरस केस से ही यूपी सरकार के खिलाफ हमलावर हैं, हाथरस केस में भी ब्रजेश मिश्रा ने दावा किया था कि दलित पीड़िता के साथ रेप हुआ है, जीभ काट दी गई है, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में न तो रेप की पुष्टि हुई और न ही जीभ कटी हुई थी, इसी तरह का दावा इनका चैनल फतेहपुर मामलें में कर रहा है।