बराक ओबामा के खिलाफ प्रतापगढ़ की कोर्ट में दाखिल हुआ परिवाद, 1 दिसंबर को होगी सुनवाई

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के खिलाफ प्रतापगढ़ की एक अदालत में परिवाद दाखिल किया गया है, सिविल जज विनीत यादव ने इस प्रकीर्णवाद पर सुनवाई के लिए 1 दिसंबर,2020 की तिथि मुकर्रर की है। ये पूरा मामला बराक ओबामा की पुस्तक से जुड़ा है। अपनी पुस्तक ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ में बराक ओबामा ने न सिर्फ राहुल गांधी को नर्वस नेता बताया है कि बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह पर भी टिप्पणी की है।

मिली जानकारी के मुताबिक, ऑल इंडिया रूरल बार एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ज्ञान प्रकाश शुक्ल ने बुधवार को लालगंज दीवानी न्यायालय में यह परिवाद दाखिल किया। इसमें कहा गया है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा पूर्व प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह को लेकर अपनी किताब में बराक ओबामा ने जो बातें लिखी हैैं, वह भारतीय गणतंत्र की लोकतांत्रिक प्रणाली के लिए आपत्तिजनक हैैं।

Image

आपको बता दें कि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपनी पुस्तक द प्रॉमिस्‍ड लैंड में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर टिप्पणी की है, ओबामा ने लिखा है, राहुल गांधी एक ऐसे छात्र हैं जिन्होंने कोर्स वर्क तो किया है और शिक्षक को प्रभावित करने के लिए उत्सुक भी रहे लेकिन इस विषय में महारत हासिल करने के लिए या तो योग्यता नहीं है या जुनून की कमी है। उन्होंने राहुल गांधी को ‘नर्वस और बेडौल गुणवत्ता वाला’ भी बताया है।

Image

इसके अलावा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने 26/11 आतंकी हमलें का जिक्र करते हुए अपनी पुस्तक में लिखा है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह मुंबई में 26/11 के आतंकी हमलों के बाद पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई करने से बच रहे थे। ओबामा ने लिखा कि हालांकि मनमोहन सिंह को बाद में इसका राजनीतिक नुकसान भी उठाना पड़ा। ओबामा ने अपनी किताब में दावा किया कि मनमोहन सिंह इस बात से चिंतित थे कि देश में मुस्लिम विरोधी भावनाएं बढ़ रही हैं और इसका सीधा फायदा बीजेपी को होगा।

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ने मनमोहन सिंह के प्रधानमंत्री बनने की वजह बताई है। किताब में कहा गया है कि ‘मनमोहन सोनिया की वजह से पीएम बने। उन्होंने कहा कि ‘मनमोहन अपनी लोकप्रियता की वजह से प्रधानमंत्री नहीं बने बल्कि उनको सानिया गांधी ने पीएम बनाया।