ब्रेकिंग: ढ़हाया जाएगा फारूक अब्दुल्ला का बंगला, सरकारी जमीन पर बना है अवैध बंगला

कश्मीर में 25000 करोड़ के रोशनी ज़मीन घोटाले में बड़ा खुलासा हुआ है, जी हाँ! नेशनल कॉन्फ्रेंस और मौजूदा वक्त में गुपकार गैंग के मुखिया फारूक अब्दुल्ला का बंगला फ़ॉरेस्ट लैंड पर बना है. इस बड़े खुलासे के बाद हड़कंप मच गया है, यही नहीं नहीं नेशनल कंफ़्रेंस का जम्मू और श्रीनगर वाला दफ्तर भी सरकारी ज़मीन पर अवैध रूप से बना हुआ है. मुमकिन है कि जल्द ही फारूक अब्दुल्ला के अवैध बंगले और दफ्तर को ढहाए जानें की कार्यवाही शुरू हो जाय ताकि जमीन कब्जे से मुक्त हो सके.

गौरतलब है कि इस समय फारूक अब्दुल्ला जम्मू कश्मीर में धारा 370 वापस लगाए जानें की कवायद में जुटे हैं, डीडीसी का चुनाव भी इस बार सभी दल मिलकर लड़ेंगे। इस गठबंधन का नाम है गुपकार।

आपको बता दें कि कश्मीर में 25000 करोड़ के रोशनी ज़मीन घोटाले की जांच CBI ने शुरू कर दी है। जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट ने रोशनी एक्ट को असंवैधानिक बताते हुए इसके तहत बाँटी गई सभी जमीनों का नामांतरण रद्द करने और 6 महीने में जमीनें वापस लेने का आदेश दिया था। हाईकोर्ट ने ही एक्ट की आड़ में हुए घोटाले की जाँच CBI को सौंपी थी।

वर्ष 2001 में तत्‍कालीन फारूक अब्दुल्ला सरकार ने जम्‍मू-कश्‍मीर में रोशनी एक्ट लागू किया था। इस योजना के तहत 1990 से हुए अतिक्रमण को इस एक्ट के दायरे में कट ऑफ सेट किया गया था। सरकार का कहना था कि इसका सीधा फायदा उन किसानों को मिलेगा जो सरकारी जमीन पर कई सालों से खेती कर रहे है। लेकिन नेताओं ने जमीनों पर कब्जे जमाने का काम शुरू कर दिया।

जम्मू-कश्मीर में लाखों एकड़ सरकारी जमीन पर नेताओं, पुलिस, प्रशासन और रेवेन्यू डिपार्टमेंट के अफसरों का कब्जा था। इस एक्ट के जरिए ही करीब ढाई लाख एकड़ जमीन पर कब्जे को कानूनी रूप दे दिया गया। करोड़ों रुपए की ये जमीनें नाम मात्र की कीमतों पर दी गई थीं।

loading...