अर्नब की गिरफ़्तारी पर बोले पूर्व आर्मी चीफ, शायद ऐसा कसाब के साथ भी नहीं हुआ होगा, जो अर्नब के साथ हो रहा है

मुंबई पुलिस अर्नब गोस्वामी के पीछे हाथ धोकर पड़ गई है, बुधवार ( 4 नवम्बर, 2020 ) को सुबह लगभग साढ़े 6 बजे रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी के मुंबई स्थित उनके घर से मुंबई पुलिस ने उन्हें घसीटकर उठा ले गई.

अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी के बाद पूर्व सेनाध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि मुंबई पुलिस ने जिस तरह से अर्नब गोस्वामी के साथ व्यवहार किया है, मेरे ख्याल से वह इस तरह से कसाब के साथ भी व्यवहार नहीं किया होगा। क्या महाराष्ट्र पुलिस अर्नब गोस्वामी और कसाब को एक कैटगरी में रख रही है?

पूर्व सेना प्रमुख वीके सिंह ने कहा, हमारे देश में मीडिया को चौथा स्तंभ माना जाता है। उसे स्वतंत्र माना जाता है, अभिव्यक्ति की आजादी है। हम पिछले कई दिनों से देख रहे है रिपब्लिक नई-नई चीजों को उजागर करता रहा है। उसको अगर सकारात्मक तरीके से लेंगे तो सबका फायदा होगा। जैसा कि हम लोगों ने आपातकाल में भी देखा था, जहां कांग्रेस का हाथ होता वहां कुछ न कुछ गड़बड़ जरूर होता है। उस समय इंडियन एक्सप्रेस था। रामनाथ गोयनका को काफी कुछ किया गया था। आज मुझे वही चीज रिपब्लिक के खिलाफ होती दिखाई दे रही है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा,’मुझे बताया गया है कि ये अर्नब को जिस केस के लिए गिरफ्तार किया गया है वह 2018 में बंद हो चुका था। अगर 2018 में बंद हो चुका था। तो उसे आज आप झूठे तरीके से क्यों उठा रहे हैं। आज महाराष्ट्र पुलिस पर किसी को भी विश्वास नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि महाराष्ट्र पुलिस जिस तरह से अर्नब के साथ व्यवहार किया है उस तरह किसी भी सभ्य देश की पुलिस नहीं करती है। मेरे ख्याल से कसाब के साथ भी महाराष्ट्र पुलिस ने ऐसा व्यवहार नहीं किया होगा। क्या आप कसाब और अर्नब गोस्वामी को एक कैटेगरी में रख रहे है?