अयोध्या के बाद श्रीकृष्ण जन्मभूमि की राह में कांग्रेस ने डाला अड़ंगा, दायर की याचिका

अयोध्या रामजन्मभूमि की राह में रोड़ा डालने वाली कांग्रेस ने अब मथुरा श्रीकृष्ण जन्मभूमि में भी अड़ंगा डाल दिया है, श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मामला कोर्ट में पहुंच चुका है. सत्र न्यायालय से मामला खारिज होने के बाद मामला जिला अदालत में है. कांग्रेस पार्टी एक बार फिर अपरोक्ष रूप से मामले के खिलाफ कोर्ट पहुंच गई है.

मथुरा से 2019 में कांग्रेस के लोकसभा प्रत्याशी रहे महेश पाठक ने कोर्ट में याचिका दाखिल कर हिंदू संगठनों की याचिका खारिज करने की मांग की है. महेश पाठक ने कहा कि श्रीकृष्ण जन्मभूमि के मामले से मथुरा की शांति व्यवस्था भंग हो सकती है.

यह पहला मामला नहीं है जब कांग्रेस हिंदुओं की आस्था से जुड़े किसी मामले को लेकर कोर्ट पहुंची हो. इससे पहले भी कांग्रेस अयोध्या मामले को लेकर दो बार कोर्ट पहुंची और उसकी जमकर किरकिरी भी हुई. 2007 में रामसेतु को लेकर तत्कालीन यूपीए सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर कहा गया था कि रामसेतु का कोई अस्तित्व नहीं है. राम सिर्फ काल्पनिक पात्र हैं.

महेश पाठक ने श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में दाखिल याचिका में कहा कि इस मामले से शहर की शांति व्यवस्था भंग हो सकती है. आपको बता दें कि महेश पाठक कांग्रेस के टिकट पर मथुरा से लोकसभा का चुनाव लड़ चुके हैं. और हेमा मालिनी से हार गए थे. उनकी याचिका के बाद एक बार फिर कांग्रेस के रुख को लेकर सवाल उठने लगे हैं.

आपको बता दें कि कांग्रेस ने अयोध्या रामजन्मभूमि में अड़ंगा डालने की भरपूर कोशिश की थी, कांग्रेस के ही वरिष्ठ नेता और सुप्रीम कोर्ट के सीनियर अधिवक्ता सिब्बल अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई को दौरान कहा कि कोर्ट को अयोध्या पर फैसला 2019 के चुनाव के बाद देना चाहिए. हालाँकि कांग्रेस अपने मंसूबों में नामयाब हुई और हिन्दुओं की जीत हुई. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो रहा है.

loading...