कांग्रेस में बड़ी बगावत: अब अधीर रंजन चौधरी बोला कपिल सिब्बल पर हमला!

बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी की करारी हार के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने पार्टी नेतृत्व पर खुलकर सवाल उठाया। कपिल सिब्बल ने कांग्रेस नेतृत्व के काम करने के तरीक़े पर सवाल उठा दिए हैं। जो अधीर रंजन चौधरी को पसंद नहीं आया और उन्होंने अब कपिल सिब्बल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

दरअसल कपिल सिब्बल अंग्रेजी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में कहा कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) सेलेक्शन प्रक्रिया में लोकतांत्रिक प्रक्रिया की अनदेखी होती है। उन्होंने कहा कि हार के बाद भी कांग्रेस नेतृत्व सबक नहीं लेना चाहता। जनता कांग्रेस को ठोस विकल्प मानती ही नहीं?

कपिल सिब्बल के बयान के बाद समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि कपिल सिब्बल ने इस बारे में पहले भी बात की थी। वह कांग्रेस पार्टी और आत्मनिरीक्षण की आवश्यकता के बारे में बहुत चिंतित हैं। लेकिन वह बिहार, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश या गुजरात के चुनावों में नजर नहीं आए।आगे उन्होंने कहा- अगर कपिल सिब्बल बिहार और मध्य प्रदेश गए होते, तो वे साबित कर सकते थे कि जो वह कह रहे हैं वह सही है और उन्होंने कांग्रेस की स्थिति को मजबूत किया है। सिर्फ बातें करने से कुछ हासिल नहीं होगा। बिना कुछ किए बोलने का मतलब आत्मनिरीक्षण नहीं है।

इससे पहले अशोक गहलोत ने कपिल सिब्बल पर हमला बोलते हुए कहा था कि कपिल सिब्बल को पार्टी के आंतरिक मामले को मीडिया के सामने रखने की जरूरत नहीं थी। इससे पूरे देश में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भावनाओं को ठेस पहुंची है।

आपको बता दें कि कपिल सिब्बल ने इंडियंस एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में कहा था कि पिछले 6 साल में कांग्रेस पार्टी ने आत्मचिंतन नहीं किया है. ऐसे में आप क्या उम्मीद कर सकते हैं कि पार्टी अब आत्मचिंतन करेगी। कपिल सिब्बल ने कहा कि देश के लोग कांग्रेस को एक प्रभावी विकल्प नहीं मानते। उन्होंने कहा कि बिहार में तो हारे ही गुजरात उपचुनाव में सभी सीटों पर चुनाव हार गए, तीन उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई. लोकसभा चुनाव में भी हमने गुजरात में एक भी सीट नहीं जीती थी. उत्तर प्रदेश के उपचुनाव में भी कांग्रेस का बुराहाल रहा. यूपी उपचुनाव में कांग्रेस के कुछ उम्मीदवारों को 2% से भी कम वोट मिले।

loading...