AMU में खड़े होकर आतंक का समर्थन कर रहे मुस्लिम छात्र, शलभमणि बोले- सरकारी पोस्टर पर चिपके मिलोगे

पिछले दिनों फ्रांस में एक टीचर ने क्लास के अंदर पैगम्बर मोहम्मद का कार्टून दिखाया तो एक मुस्लिम छात्र ने टीचर का गला काट दिया, यही नहीं एक सख्श ने अल्लाह-हु-अकबर चिल्लाते हुए चर्च में घुसकर एक महिला का गला काट दिया, दो अन्य लोगों को भी मौत के घाट उतार दिया। इन दोनों घटनाओं को फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रो ने इस्लामिक आतंकवाद करार दिया, साथ ही इस्लामिक आतंकवाद के विरुद्ध ठोस कदम भी उठाने शुरू कर दिए, जो अब देश-दुनिया के कट्टरपंथी मुस्लिमों को रास नहीं आ रहा है।

भारत के भी कट्टरपंथी मुस्लिम फ़्रांस के खिलाफ जहर उगल रहे हैं, जबकि भारत ने आतंकवाद को जड़ से मिटाने के लिए फ़्रांस के खिलाफ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका आधिकारिक ऐलान किया।

कुख्यात उर्दू शायर मुनव्वर राना के बाद अब अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के फरहान जुबेरी ने फ़्रांस के खिलाफ जहर उगला है, फरहान जुबैरी अपने मुस्लिम छात्रों के साथ AMU में खड़े होकर आतंक का समर्थन कर रहा है।

फरहान ने कहा है कि अगर उनके (पैगंबर मोहम्मद) खिलाफ कोई गुस्ताखी भरी हरकत की तो हम उसका सिर तन से जुदा कर देंगे. जुबेरी ने आगे कहा कि जिसकी खातिर में जिंदगी में हैं और हम जिसकी उम्मत मे हैं, अगर उनके लिए कोई गलत चीज करेगा तो हम बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेंगे।

फरहान जुबैरी को जवाब देते हुए भाजपा नेता शलभमणि त्रिपाठी ने कहा कि आतंकी ज़ुबान के साथ गेट पार आए तो सरकारी पोस्टर पर चिपके मिलोगे। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूचना सलाहकार शलभमणि त्रिपाठी ने अपने ट्वीट में लिखा, AMU के दड़बे में बैठकर अपने गीदड़ों के बीच हुआं हुआं कर रहे हो, पर इस आतंकी ज़ुबान के साथ गेट पार आए तो सरकारी पोस्टर पर चिपके मिलोगे, अपने बाक़ी आकाओं की तरह !!

आपको बता दें कि फरहान जुबैरी जैसे आतंकी सोंच के व्यक्ति AMU में खड़े होकर फडफ़ड़ा रहे हैं, बाहर अगर निकल आये तो योगी सरकार वैसे ही कार्यवाही कर सकती है जैसे CAA विरोधियों के साथ किया था. जुर्माने की पर्ची घर पहुंचेगी, तस्वीर चौराहे पर लटकी मिलेगी।