पाकिस्तान और तुर्की को बैन करो, दोनों आतंक के आका है, फ़्रांस के विपक्ष ने की सरकार से मांग

मुस्लिमों द्वारा फ़्रांस में किये गए हमले के बाद अब फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कट्टरपंथियों के खिलाफ एक्शन लेना शुरू कर दिया है, जिसकी वजह से इस्लामिक मुल्क बिलबिलाये हुए हैं, इन सब के बीच फ़्रांस के विपक्ष ने फ्रांसीसी सरकार से मांग की है कि पाकिस्तान, बाँग्लादेश और तुर्की को बैन किया, इसके पीछे तर्क दिया गया है कि ये तीनों देश आतंक का समर्थन कर रहे हैं. फ़्रांस जैसे धर्मनिरपेक्ष देशों को ऐसे देशों से बिल्कुल भी सम्बन्ध नहीं रखने चाहिए।

आपको बता दें कि तुर्की तो फ़्रांस के खिलाफ जहर उगल ही रहा है, साथ-साथ पाकिस्तान भी जमकर फ़्रांस के खिलाफ बोल रहा है, शुक्रवार को ही इस्लामाबाद में हजारों लोगों की हिंसक भीड़ ने फ्रांसीसी दूतावास पर हमले का प्रयास किया था।

फ्रांस की विपक्षी नेता, मरीन ले पेन ने ट्वीट करते हुए लिखा कि बांग्लादेश में आज हुए हिंसक विरोध प्रदर्शनों को देखते हुए मैं राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर बांग्लादेश और पाकिस्तान व् तुर्की से आने वाले प्रवासियों पर तत्काल रोक लगाने की मांग करती हूं। उन्होंने दावा किया कि बांग्लादेश में प्रदर्शनकारियों ने फ्रांसीसी राजदूत का गला काटने की बात की।

मीडिया रिरिपोर्टस के मुताबिक, विपक्ष की मांग को फ़्रांस सरकार ने गंभीरता से लिया है और बैन भी लगा सकता है जिसके बाद पाकिस्तानी नागरिक फ़्रांस नहीं जा सकेंगे। अगर फ़्रांस ने बैन लगाया तो पाकिस्तान के खिलाफ बड़ा झटका होगा।

आपको बता दें कि फ़्रांस में एक हफ्ते के भीतर 4 फ्रेंच नागरिकों की ह्त्या की जा चुकी है, एक मुस्लिम सख्श ने पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाने पर शिक्षक का सर कलम कर दिया तो एक ने अल्लाह-हु अकबर चिल्लाते हुए चर्च में घुसकर एक महिला का गला रेता और दो लोगों की चाकू से मारकर ह्त्या कर दी, इन दोनों घटनाओं को फ़्रांस के राष्ट्रपति इम्मैन्युअल मैक्रों ने इस्लामिक आतंकवाद करार दिया है. साथ ही उन्होंने इस्लामिक आतंकवाद के विरुद्ध जंग भी छेड़ दी है, भारत ने भी फ़्रांस का समर्थन करने का ऐलान किया है।