अमित शाह को भी कभी अर्नब की तरह दबोचकर ले गई थी कांग्रेस सरकार पुलिस

मुंबई पुलिस ने बुधवार ( 4 नवंबर, 2020 ) को रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के संपादक अर्नब गोस्वामी को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया, अर्नब को मुंबई पुलिस ने बर्बरतापूर्ण तरीके से गिरफ्तार किया, जिसका वीडियो आप सबने इंटरनेट पर देखा होगा।

अर्नब की गिरफ़्तारी के बाद केंद्रीय मंत्री अमित शाह की गिरफ़्तारी की याद आ गई जब आज से 10 साल पहले कांग्रेस की सरकार में पुलिस ने उन्हें बर्बरतापूर्ण तरीके से गिरफ्तार किया था।

साल था 2010. केंद्र में यूपीए की सरकार थी और पी. चिदंबरम उस वक्त देश के गृह मंत्री थे, उस वक्त सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस सुर्खियों में था. इसी मामले में गुजरात के तत्कालीन गृह मंत्री अमित शाह पर कार्रवाई की गई थी. 25 जुलाई 2010 को सीबीआई ने अमित शाह को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया था. कांग्रेस सरकार पर आरोप लगा था की अमित शाह को बदले की भावना से गिरफ्तार करवाया।

वरिष्ठ पत्रकार अर्नब गोस्वामी की गिरफ़्तारी के बाद अब महाराष्ट्र की कांग्रेस समर्थित शिवसेना सरकार पर आरोप लग रहे हैं कि बदले की भावना से कार्यवाही कर रही है, पिछले कुछ दिनों के घटनाक्रम को देखा जाय तो तस्वीर सीसे की तरह साफ़ हो जाएगी। फिलहाल अर्नब गोस्वामी 14 दिन की न्यायिक हिरासत में हैं।

सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है कि गिरफ़्तारी के बाद जिस तरह से अमित शाह ने धमाकेदार वापसी की उसी तरह अर्नब गोस्वामी को धमाकेदार वापसी करेंगे।

आपको बता दें कि अर्नब गोस्वामी की जमानत याचिका पर आज सुनवाई होगी, ज्यादातर चांस है कि उन्हें जमानत मिल जाए, क्योंकि पुलिस ने जो 2 साल पुराना बंद केस खोला है, उससे सम्बंधित मजबूत साक्ष्य कोर्ट के सामने रख नहीं पायी है, यही वजह है कि मुंबई की अलीबाग कोर्ट ने अर्नब को पुलिस कस्टडी में न भेजते हुए न्यायिक हिरासत में भेज दिया। अब मुंबई पुलिस अर्नब से पूछताछ नहीं कर पाएगी।