केजरीवाल ने धूमधाम से मनाई दिवाली तो भड़क उठी अलका लाम्बा, बोलीं- देश अब सेकुलर नहीं रहा!

कल 14 नवंबर, 2020 को दिवाली थी। दिवाली हिन्दुओं का सबसे बड़ा त्यौहार है, देशभर में दिवाली धूमधाम से मनाई गई। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली अक्षरधाम मंदिर में भव्य समारोह का आयोजन करके दिवाली मनाई। इस कार्यक्रम में केजरीवाल कैबिनेट के सभी मंत्री मौजूद थे। अरविन्द केजरीवाल का इस तरीके से दिवाली मनाना कांग्रेस नेता अलका लाम्बा को सही नहीं लगा, उन्होनें कहा कि देश अब धर्मनिरपेक्ष यानि सेकुलर नहीं रह गया।

कांग्रेस नेता अलका लाम्बा ने कई ट्वीट करके केजरीवाली दिवाली मनाने के तौर-तरीकों पर निशाना साधा। अलका लाम्बा ने एक ट्वीट में लिखा, आम आदमी पार्टी ( AAP ) का सफ़र शुरू हुआ था, राम लीला मैदान से, वहां से गाँधी समाधि राजघाट पहुंचा, फिर शहीद भगत सिंह पर आकर कुछ समय रुका, चुनाव जीतने के बाद कनॉट प्लेस के हनुमान मंदिर पहुँचा, कल अक्षरधाम मंदिर पहुँचा, देखिए क्या सरकारी ख़र्चे पर #ईद #गुरुपर्व और क्रिस्मस भी मनाया जाता है के नहीं?

एक अन्य ट्वीट में अलका लाम्बा ने लिखा कि सच्चाई यह है कि देश अब धर्मनिरपेक्ष नहीं रहा, देश बाँट दिया जा चुका है, आप तय करें आपको किस ओर जाना है या बीच (धर्मनिरपेक्ष) में ही झूलते रहना है।

आपको बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने कैबिेनेट सहयोगियों के साथ अक्षरधाम मंदिर में दिवाली की पूजा की. इस अवसर पर उनके साथ उनकी पत्नी सुनीता केजरीवाल भी मौजूद थीं. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से अपील की थी कि पटाखा न फोड़ें क्योंकि इससे प्रदूषण का स्तर बढ़ता है जिसका असर कोरोना मरीजों पर पड़ता है. दिवाली पूजन कार्यक्रम का टीवी चैनल और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्रसारण किया गया. इस कार्यक्रम का प्रचार-प्रसार करने के लिए केजरीवाल ने हफ्ते भर पहले ही अखबारों और टीवी चैनलों में करोड़ों का विज्ञापन दिए थे, ताकि लगे कि अब केजरीवाल भी कट्टर हिन्दू बन रहे हैं.

loading...