मुश्ताक को कुल्हाड़ी से काटने वाले गोलू और गुड्डू को क़ानूनी व् आर्थिक सहायता देगी वकील करुणेश शुक्ला की टीम

बहन से छेड़खानी करने पर गुड्डू और गोलू नाम के दो युवकों ने मुश्ताक नाम के एक शोहदे को कुल्हाड़ी से काट डाला, उसके बाद खून से सनी कुल्हाड़ी लेकर दोनों भाई थाने पहुंचे और बताया कि मुश्ताक को मौत के घाट उतार दिया है. यानि अपना जुर्म कबूल कर लिया। ये घटना लखनऊ के मोहनलालगंज के एक कस्बे की है।

सुप्रीम कोर्ट के वकील करुणेश शुक्ला ने गुड्डू और गोलू को वीर बताया है साथ ही क़ानूनी व् आर्थिक सहायता देनें का ऐलान किया है, शुक्ला ने ट्वीट करके ये जानकारी दी है. सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता करुणेश शुक्ला ने अपने ट्वीट में लिखा, गोलू और गुड्डू ने अपनी बहन की इज्जत बचाने के लिए, ये कार्य किया है और हत्या करने के बाद कानून से भागे नहीं बल्कि खुद को पुलिस को सौंप कर बीरता का परिचय दिया है। हमारी टीम द्वारा इनके तथा इसके परिवार के लिए कानूनी सहायता और आर्थिक मदद दोनों दी जायेगी। आपको बता दें कि करुणेश शुक्ला Mission Humanity नाम एक संगठन के चेयरपर्सन भी हैं, शुक्ला ने एक हिन्दू हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मोहनलालगंज में दुर्गा मंदिर के पास गोलू और गुड्डू दो भाई अपनी बहन के साथ रहते हैं। पड़ोस में रहने वाला ट्रक ड्राइवर मुश्ताक अक्सर उनकी बहन को छेड़ा करता था पर बहन ने अपने भाइयो से कभी कोई शिकायत नही की क्योंकि झगड़ा हो सकता था।

मुश्ताक ने जब हद्द पार कर दी तो बहन ने भाईयों से शिकायत कर दी, इसके बाद दोनो भाई तत्काल कुल्हाड़ी लेकर मुश्ताक के घर पहुँच गए, पहले तो घर से मुश्ताक को निकालकर जमकर मारा और उसके बाद सड़क पर लाये और उसे को कुल्हाड़ी से काट दिया। खून से सनी कुल्हाड़ी लेकर गुड्डू और गोलू पुलिस कोतवाली गए और शांति से अपने आप को सरेंडर कर दिया। पुलिस ने दोनों को तुरंत गिरफ्तार कर लिया।

कोतवाली पहुँचने के बाद दोनों भाइयों कहा कि मुश्ताक कई दिनों से बहन को परेशान कर रहा था, इसलिए उसे मार डाला। वहीँ मुश्ताक के भाई ने दोनों भाइयों के अलावा युवती की माँ व् बहन को भी नामजद किया है. पुलिस ने आरोपी की माँ को भी हिरासत में लिया है।

रविवार (22 नवंबर 2020) को मुश्ताक कंटेनर लेकर कोलकाता जा रहा था। जैसे ही वह थोड़ी दूर स्थित भवानी खेड़ा पहुँचा, तभी उसका गोलू की बहन से विवाद हो गया। दोनों के बीच काफी बहस हुई लेकिन मौके पर मौजूद लोगों ने दखल देकर पूरा मामला शांत करा दिया। इसके बाद युवती अपने घर पहुँची और वहाँ उसने पूरी घटना की जानकारी अपने घर वालों को दी। उसके बाद दोनों भाई मुश्ताक के घर पहुंचे और उसे काट डाला।

घटना की जानकारी मिलते ही मुश्ताक के परिजन घटनास्थल पर पहुँचे और उसे स्थानीय अस्पताल लेकर गए। जहाँ चिकित्सकों ने उसकी हालत गंभीर बताते हुए ट्रॉमा सेंटर रेफर कर दिया। वहाँ मुश्ताक को मृत घोषित कर दिया।