अगर UP में किसी ने फ़्रांस के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन तो होगी कड़ी कार्यवाही, योगी सरकार सख्त

cm-yogi-adityanath-says-up-no-place-for-ghulami-statue

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के ‘इस्लामिक आतंकवाद’ संबंधी बयान के खिलाफ देश के कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हुए. हालांकि, उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने साफ कर दिया है कि ऐसे प्रदर्शन बर्दाश्त नहीं किये जाएंगे।

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में फ्रांस के खिलाफ प्रदर्शन पर सख्त रुख अपनाया है. यूपी डीजीपी कार्यालय की तरफ से अलर्ट जारी कर कहा गया है कि हिंसा और उपद्रव करने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा. साथ ही संवेदनशील जिलों में पेट्रोलिंग बढ़ाने के निर्देश भी दिए गए हैं. सरकार पश्चिमी उत्तर प्रदेश पर खास नजर रखे हुए है।

आपको बता दें कि मुंबई, हैदराबाद और मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी प्रदर्शन हुए. यहां कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतरे और फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ नारे लगाये. पुलिस ने शांति भंग करने और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के उल्लंघन का मामला दर्ज कर लिया है. वहीं, भाजपा ने कांग्रेस से कट्टरपंथ पर अपनी स्थिति साफ करने की मांग की है।

मालूम हो कि पैगंबर मोहम्मद के कार्टून और फ्रांस के राष्ट्रपति के आतंकवाद को इस्लाम से जोड़ने संबंधी बयान के खिलाफ कई मुस्लिम देश मोर्चा खोले हुए हैं। फ्रेंच उत्पादों के बहिष्कार का अभियान भी चलाया जा रहा है।

आपको बता दें कि एक मुस्लिम युवक ने पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाने पर एक शिक्षक का गला काट दिया।, एक और मुस्लिम सख्श ने चर्च में घुसकर एक महिला का गला रेता, 2 अन्य लोगों को भी मौत के घाट उतार दिया, इसके बाद ही फ़्रांस के राष्ट्रपति ने इस्लामिक आतंकवाद करार दिया। मुस्लिमों को ये बुरा लग गया, लेकिन जब निर्दोषों की गर्दन काटी गई तब इन्हें बुरा नहीं लगा।