आतंकियों की मौत पर मानवाधिकार की दुहाई देने वाले पुजारी की हत्या पर चुप क्यों: मास्टर शीफूजी

राजस्थान में करौली जिले के बूकना गाँव में जमीन को लेकर दो पक्षों के बीच विवाद में पुजारी बाबूलाल वैष्णव को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया गया था। पुजारी की इलाज के दौरान मौत हो गई। इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर सेलेक्टिव लोगों की चुप्पी पर ग्रैंडमास्टर शीफूजी ने सवाल उठाया है, ग्रैंडमास्टर का कहना है कि आतंकियों की मौत पर मानवाधिकार की दुहाई देने वाले पुजारी की हत्या पर चुप क्यों हैं.

ग्रैंडमास्टर शीफूजी ने अपने ट्वीट में लिखा कि एक पुजारी श्री बाबूलाल वैष्णव जी को राजस्थान के करौली जिले के बोकना गाँव में भू माफिया ने ज़िन्दा जला दिया? लेकिन सब चुप हैं, लेकिन क्यों?और कहाँ हैं वो जो आतंकवादियों के मरने पर मानव अधिकार की दुहायी देते हैं,आंदोलन करने लगते हैं?क्यों? और कब तक?

गौरतलब है कि मानवता के दुश्मन आतंकवादियों के मारे जाने पर कुछ लोग मानवाधिकार की दुहाई देने लगते हैं लेकिन राजस्थान में एक गरीब पुजारी को ज़िंदा जला दिया गया, इस पर सब खामोश हैं।

आपको बता दें कि बीते बुधवार की शाम को कैलाश, शंकर, नमो, किशन, रामलखन जमीन पर कब्जा कर छप्पर तानने लग गए। बुजुर्ग पुजारी ने उन्हे रोकने का प्रयास किया तो आरोपितों ने पेट्रोल की बोतल डालकर आग लगा दी। इससे पुजारी बुरी तरह झुलस गए। गंभीर स्थिति में पुजारी को जयपुर के एसएमएस अस्पताल पहुँचाया गया, जहाँ इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। मुख्य आरोपित को गिरफ्तार करने के साथ ही अन्य आरोपितों की तलाशी के लिए पुलिस की अलग-अलग टीम गठित की गई है।