बॉलीवुड के खान गैंग समेत 34 ने रिपब्लिक पर किया केस तो ख़ुशी से गदगद हुए राहुल कँवल और आशुतोष

34 बॉलीवुड हस्तियों और 4 बॉलीवुड एसोसिएशनों ने मिलकर न्यूज़ चैनल रिपब्लिक टीवी और टाइम्स नाउ व् इनमें कार्यरत कुछ पत्रकारों के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की है. रिपब्लिक और टाइम्स नाऊ के खिलाफ याचिका दायर होने के बाद इंडिया टुडे के पत्रकार राहुल कँवल और राजनीति में मुंह की खाने के बाद फिर पत्रकारिता में लौटने वाले आशुतोष गुप्ता काफी खुश हैं. दशकों की दुश्मनी भुलाकर बॉलीवुड तो एक हो गया लेकिन मीडिया अभी भी एक नहीं हो पाया है, एक-दूसरे से जलन साफ़ दिख रही है. यही कारण है कि रिपब्लिक और टाइम्स नाउ के पत्रकारों पर केस दर्ज होने के बाद कुछ पत्रकार ख़ुशी मना रहे हैं.

दिल्ली हाईकोर्ट में दायर की गई याचिका में बॉलीवुड के खिलाफ गैर जिम्मेदाराना और अपमानजनक टिप्पणी करने करने का आरोप लगाया गया है साथ ही याचिका में बॉलीवुड हस्तियों का मीडिया ट्रायल रोकने की मांग की गई है. सलमान खान, शाहरुख़ खान, आमिर खान, अजय देवगन और करण जौहर समेत बड़ी हस्तियों की ओर से ये याचिका दायर की गई है.

खान ब्रिगेड और करण जौहर समेत 34 हस्तियों ने ( यहाँ देख सकते हैं पूरी लिस्ट जिसने मुकदमा दर्ज किया है ) यह मुकदमा रिपब्लिक टीवी और इस चैनल के संपादक अर्नब गोस्वामी व् पत्रकार प्रदीप भंडारी, अंग्रेजी न्यूज़ चैनल टाइम्स नाउ और इसके संपादक राहुल शिवशंकर व् सीनियर जर्नलिस्ट नाविका कुमार के खिलाफ दायर किया है, याचिका में कहा गया है कि चैनलों और साथ ही सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों को “बॉलीवुड और इसके सदस्यों के खिलाफ गैर-जिम्मेदार, अपमानजनक और अपमानजनक टिप्पणी करने या प्रकाशित करने से बचना चाहिए। इस याचिका पर कब सुनवाई होगी अभी इसकी जानकारी सामने नहीं आई है.

न्यूज़ चैनलों और पत्रकारों के खिलाफ केस दर्ज होने के बाद इंडिया टुडे के पत्रकार राहुल कँवल ने अपने ट्वीट में लिखा- ये अच्छा है कि बॉलीवुड एकजुट होकर जहरीले चैनलों का सामना करने को तैयार है. ऐसा नहीं हो सकता कि कोई अनर्गल आरोप लगाकर आपकी छवि खराब करे और आप खामोश रहें. पगलाए एंकर्स और एडिटर्स को समझना चाहिए कि बिना सबूत किसी पर आरोप लगाने का अंजाम बुरा हो सकता है. ये बहुत पहले हो जाना चाहिए था।

केजरीवाल द्वारा राज्यसभा न भेजे जाने से नाराज होकर पत्रकारिता में वापसी करने वाले आशुतोष गुप्ता ने लिखा- बॉलीवुड को ये मुकदमा बहुत पहले ठोंकना था! ये केस प्रेस की आज़ादी का नहीं, प्रेस की आड़ में कुछ एंकरों के नंगेपन/गुंडई का है।

loading...