PFI का जमूरा मसूद अहमद है जामिया का छात्र, इसी ने रची थी UP मेंं दंगे की साजिश

उत्तर प्रदेश पुलिस ने कटटर इस्लामिक संगठन ( PFI ) के 4 मास्टरमाइंड को गिरफ्तार कर लिया था, इन लोगों का मकसद हाथरस केस के बहाने उत्तर प्रदेश में जातीय दंगा कराना था।

यूपी पुलिस ने पीएफआई के जिन 4 लोगों को गिरफ्तार किया है उनकी पहचान अतीकउर रहमान, सिद्दीकी, मसूद अहमद और मो. आलम के रूप में हुई है, चारों को मथुरा से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार किये गए लोगों से वेबसाइट से जुड़े होने के सुराग मिले हैं और भड़काऊ व आपत्तिजनक कंटेंट तथा सदिग्ध साहित्य भी बरामद किये गए हैं।

पीएफआई के 4 जमूरों में से एक मसदू अहमद बहराइच का रहने वाला है. मसूद अहमद दिल्ली की जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में एलएलबी का छात्र है. बीते दो साल से ये कैम्पस फ्रेंड ऑफ इंडिया से जुड़ा बताया जा रहा है. बता दें कि सीएफआई पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया का स्टूडेंट विंग है।

मामले की जानकारी देते हुए अपर पुलिस अधीक्षक कुवंर ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि मसूद खान के पिता नाम शकील खान है. ये बहराइच जिले के जरवल रोड़ मोहल्ला बैरा काजी के थाना जरवल रोड़ क्षेत्र का रहने वाले हैं. मसूद की गिरफ्तारी के बाद ये जांच भी की जा रही है यूपी और देश के भीतर जातीय और सांप्रदायिक दंगे फैलाने के लिए भारत नेपाल सीमा पर पीएफआई की गतिविधियां क्या चल रही हैं.

पुलिस पूछताछ में बड़ा खुलासा सामने आया है. जानकारी के मुताबिक कि ये लोग पत्रकार बनकर हाथरस की आग को पूरे देश में फैलाने की फिराफ में थे. गिरफ्तार अतीकुर्रहमान दंगे के लिए फंडिंग जुटा रहा था.