भारतीय मुस्लिमों को कटटरपंथी बनाकर सीरिया भेजता था ISIS आतंकी अब्दुल-नासिर, NIA ने दबोचा

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA ) ने खूंखार आतंकी संगठन ईसिस के दो ऐसे आतंकियों को गिरफ्तार किया है जो भारतीय मुस्लिमों को कट्टरपंथी बनाकर सीरिया भेजने का काम करते थे, NIA द्वारा गिरफ्तार किये गए आतंकियों की पहचान चेन्नई निवासी 40 वर्षीय अहमद अब्दुल कादिर और बेंगलुरु निवासी 33 वर्षीय इरफ़ान नासिर के रूप में हुई है। इन आतंकियों पर युवाओं को कट्टरपंथी बनाने और उन्हें आतंकवादी गतिविधियों में शामिल कराने के लिए फंडिंग उपलब्ध कराने का आरोप है।

दोनों को एनआईए की विशेष अदालत ने 10 दिन की हिरासत में भेज दिया है। एनआईए ने बताया कि अब्दुल कादिर तमिलनाडु के चेन्नई स्थित एक बैंक में बतौर बिज़नेस एनालिस्ट (विश्लेषक) काम करता था। वहीं नासिर बेंगलुरु में बतौर चावल व्यापारी काम करता था।

ऑपइण्डिया के मुताबिक, एनआईए ने बुधवार को चेन्नई में कादिर और बेंगलुरु के नासिर के आवासों पर छापा मारा था। जाँच एजेंसी ने इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और दोषी ठहराने वाले सबूत बरामद किए हैं। इससे पहले एनआईए ने 17 अगस्त को बेंगलुरु से ही अब्दुर रहमान नाम के एक आईएसआईएस आतंकी को गिरफ्तार किया था.

एनआईए का आरोप है कि इन्होंने साल 2013 से 2014 के बीच युवाओं को सीरिया भेजने के लिए फंडिंग इकट्ठा की थी। एनआईए ने बताया कि जाँच में यह बात सामने आई है कि अहमद अब्दुल कादिर, इरफ़ान नासिर और इनके अन्य सहयोगी हिज्ब-उत-तहरीर नाम के संगठन के सदस्य थे।

उन्होंने ‘कुरान सर्किल’ नाम का नया संगठन बना लिया था, जिसमें वह भोले नौजवानों को शामिल करके उन्हें कट्टरपंथी बनाते थे और उन्हें आतंकवादी गतिविधियों से जोड़ने के लिए फंडिंग करके उन्हें सीरिया भेजते थे। उनके द्वारा सीरिया भेजे गए 2 युवाओं की मौत हो गई। दोनों आरोपित संगठन के युवाओं को कट्टरपंथी और आतंकवादी गतिविधियों का हिस्सा बनाने में अहम भूमिका निभाते थे।

 

loading...