मुंगेर: गुस्साए लोगों ने DM-SP दफ्तर में की तोड़फोड़, SP लिपि सिंह और DM राजेश मीणा हटाये गए

बिहार के मुंगेर में दुर्गा पूजा प्रतिमा विसर्जन करने जा रहे हिन्दुओं पर पुलिस ने बर्बरतापूर्वक गोलियाँ चला दी, इस घटना के बाद देशभर में एनडीए सरकार के खिलाफ गुस्सा था, लोग जिले की एसपी लिपि सिंह और डीएम राजेश मीणा से भी खफा थे.

गुस्साए लोगों ने गुरुवार ( 29 अक्टूबर, 2020 ) को SP और DM दफ़्तर पर तोड़फोड़ की और थाने के बाहर खड़ी गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया, डीएम और एसपी के खिलाफ लोगों का गुस्सा देखते हुए प्रसाशन ने एसपी लिपि सिंह और डीएम राजेश मीणा को हटा दिया है।

मिली जानकारी के मुताबिक, मुंगेर में दुर्गा पूजा के विसर्जन के दौरान पुलिस और श्रद्धालुओं की इस भिड़ंत में 1 युवक की मौत हो गई है, पुलिस की बर्बरता का भी वीडियो सामने आया है.वीडियो के वायरल होने के बाद जिला प्रशासन की खासी आलोचना हो रही है। पुलिस ने फायरिंग भी की, जिसमें एक युवक की मौत हो गई। 6 घायलों का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है।

डीएम राजेश मीणा और एसपी लिपि सिंह ने इस मामले में सफाई देते हुए बयान जारी किए हैं। एसपी ने दावा किया है कि प्रतिमा विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने पुलिस पर पथराव किया और गोलीबारी की, जिसके बाद अपने बचाव में पुलिस ने कार्रवाई की।

मुंगेर पुलिस का कहना है कि दुर्गा पूजा विसर्जन के दौरान हुई इस घटना में उसके 20 जवान घायल हुए हैं और एक SHO स्तर के अधिकारी का सिर फट गया। एसपी ने युवक की मौत के लिए भी असामाजिक तत्वों की गोलीबारी को जिम्मेदार ठहराया है। लेकिन स्थानीय लोग पुलिस पर फायरिंग का आरोप लगा रहे हैं.