झूठा साबित हुए मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर, BARC ने कहा- रिपब्लिक के खिलाफ कोई सबूत नहीं

मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क को टीआरपी चोर साबित करने की कोशिश की लेकिन अब परमबीर के झूठ का पर्दाफाश हो चुका है, जी हाँ! जिस BARC का हवाला देकर परमबीर सिंह ने प्रेस-कॉन्फ्रेंस में रिपब्लिक टीवी पर पैसे देकर टीआरपी खरीदने का आरोप लगाया है उसी BARC ने कहा है कि रिपब्लिक के खिलाफ कोई सबूत नहीं हैं।

मुंबई के पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह ने 9 अक्टूबर को एक प्रेस कांफ्रेंस की। जिसमें उन्होंने बताया कि टीआरपी घोटाले में रिपब्लिक के खिलाफ सबूत मिले हैं। लेकिन रिपब्लिक को भेजे गए मेल में BARC ने औपचारिक तौर पर माना कि रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के खिलाफ कोई सबूत नहीं है।

मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने कहा था कि BARC ने टीआरपी हेरफेर की हमें शिकायत दी उसके बाद हमनें इन्वेस्टिगेशन की, जिसमें पता चला है कि रिपब्लिक टीवी समेत दो मराठी चैनलों ने पैसे देकर टीआरपी बढ़वाई है, हालाँकि BARC ने जो शिकायत दी है उसमें रिपब्लिक नहीं बल्कि इंडिया टुडे का नाम लिखा है। इस तरह से परमबीर के झूठ की पोल खुल गई।

loading...