महबूबा मुफ्ती ने उगला देश के खिलाफ जहर, बोली- नहीं करुँगी तिरंगे का सम्मान, हमें चाहिए कश्मीर का झंडा

हिरासत से रिहा होने के बाद जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने एक बार फिर देश के खिलाफ जहर उगला है, महबूबा मुफ्ती ने भारत की आन-बान-शान तिरंगे का सम्मान करने से इनकार कर दिया है और कश्मीरी झंडे की मांग की है, महबूबा मुफ्ती जैसी नेता भारत का खाकर भारत के खिलाफ ही जहर उगलती हैं।

महबूबा मुफ्ती ने प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके कहा कि जब तक जम्मू कश्मीर में उसका संविधान और झंडा लागू नहीं किया जाता, वे किसी भी दूसरे झंडे को न ही हाथ लगाएंगी और न ही सलाम करेंगी। उनका इशारा भारतीय तिरंगे की ओर था।

14 महीने की हिरासत के बाद आज पहली बार पत्रकारों के समक्ष रूबरू हुई महबूबा मुफ्ती ने फिर से जहर उगलना शुरू कर दिया है. बताते चलें कि जम्मू कश्मीर में अब कश्मीरी झंडा तभी लग सकता है जब धारा 370 बहाल होगी, मोदी सरकार में ये असम्भव है।

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जिन्होंने हमसे हमारा हक छीना है, उन्हें हमारा हक लौटाना है। मैं अपने लोगों को जम्मू कश्मीर की अवाम को इसका यकीन दिलाती हूं। महबूबा मुफ्ती ने इस दौरान चुनावी सियासत से दूर रहने का एलान करते हुए कहा कि जब तक हमें हमारा संविधान और झंडा नहीं लौटाया जाएगा, हम किसी भी चुनाव में हिस्सा नहीं लेंगे।

loading...