महिला को ‘आइटम’ कहने वाले कमलनाथ पर क़ानूनी शिकंजा, SC कमीशन ने DGP से मांगी रिपोर्ट

भाजपा प्रत्याशी और मध्यप्रदेश की महिला विकास मंत्री इमरती देवी को आइटम कहकर कांग्रेस नेता कमलनाथ बुरी तरह से फंस चुके हैं, पहले तो राहुल गांधी ने उनके बयान से किनारा कर लिया, अब कमलनाथ पर क़ानूनी शिकंजा कसा गया है.

दलित जाति से आने वाली महिला नेता के किलाफ अपमानजनक टिप्पणी को लेकर अनुसूचित जाति राष्ट्रीय आयोग ने डीजीपी से रिपोर्ट मांग ली है। अनुसूचित जाति के लिए बने राष्ट्रीय आयोग ने मंगलवार को मध्य प्रदेश के डीजीपी और मुख्य सचिव को नोटिस जारी करके पूछा है कि बीजेपी नेता इमरती देवी के खिलाफ कमलनाथ के बयान को लेकर क्या कार्रवाई की गई है? आयोग ने दोनों अधिकारियों को 15 दिनों के भीतर एक्शन टेकन रिपोर्ट जमा कराने को कहा है.

बता दें कि मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने रविवार ( 18 अक्टूबर, 2020 ) को डबरा विधानसभा क्षेत्र में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए भाजपा प्रत्याशी एवं कैबिनेट मंत्री इमरती देवी के बारे में कहा कि “आप तो उसे मुझसे ज्यादा पहचानते हैं, आपको मुझे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था, ये क्या आइटम है। कमलनाथ के इस बयान के बाद देश और प्रदेश की सियासत गरमा गई।

केरल के वायनाड से कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा कि कमलनाथ जी मेरी पार्टी के हैं, लेकिन व्यक्तिगत रूप से, मुझे उस प्रकार की भाषा पसंद नहीं है जिसका उन्होंने इस्तेमाल किया। मैं इसकी सराहना नहीं करता, चाहे वह कोई भी हो। यह दुर्भाग्यपूर्ण है।

वहीँ इमरती देवी ने कहा कि मैं कमलनाथ को अपना बड़ा भाई मानती थी, उनके पैर छूती थी लेकिन उसने मुझे आइटम बोलकर बहन के इज्जत की धज्जियाँ उड़ा दी, भाजपा प्रत्याशी ने कहा कि अच्छा किया मैनें कांग्रेस छोड़ दिया, क्योंकि कमलनाथ की नियत बहुत गन्दी है. आपको बता दें कि इमरती देवी पहले कांग्रेस में थी अब भाजपा में शामिल हो गई हैं.

loading...