रिहा होने के बाद बोलीं महबूबा मुफ्ती, हर पल मेरे दिल पर वार करता है वो फैसला, दिमाग में खटकता है

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती मंगलवार ( 13 अक्टूबर, 2020 ) को रिहा कर दी गई, महबूबा पूरे 14 महीनें तक हिरासत में रही, जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद से ही पीडीपी अध्यक्ष महबूबा को केंद्र सरकार ने नजरबंद कर दिया था ताकि भड़काऊ बयान देकर कश्मीर का माहौल न खराब कर सकें। हालाँकि रिहाई के बाद महबूबा मुफ्ती ने फिर अपना रंग दिखाया है.

मंगलवार की रात रिहाई के बाद महबूबा मुफ्ती ने अपना एक ऑडियो संदेश जारी किया और धारा 370 की बहाली के लिए संघर्ष करने का एलान किया है, महबूबा मुफ्ती ने कहा कि उस काले दिन का काला फैसला उनके दिमाग में हर रोज खटकता रहा है और इसके लिए वह संघर्ष करेंगी।

अपने ऑडियो सन्देश में महबूबा कहती हैं कि मैं आज एक साल से भी ज्यादा अर्से के बाद रिहा हुई हूं। इस दौरान 5 अगस्त 2019 के उस काले दिन का काला फैसला हर पल मेरे दिल और रूह पर हर पल वार करता रहा। सुनिए पूरा ऑडियो

आपको बता दें कि 5 अगस्त 2019 को मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 को हटा दिया था, इसके बाद तत्काल महबूबा मुफ्ती, फारूक और उमर अब्दुल्ला समेत की कश्मीरी नेताओं को प्रसाशन ने नजरबंद कर दिया था, इसके अलावा मीरवाइज उमर फारूक जैसे अलगाववादी गद्दारों को भी बंद कर दिया गया था अगर ये सब बाहर होते तो निश्चित ही भड़काऊ बयान देते और कश्मीर की शांति व्यवस्था खराब करने की पुरजोर कोशिश करते।

loading...