TRP घोटाले में आया इंडिया टुडे-तक का नाम तो लोग बोले- “राहुल कँवल सूजी है”

तस्वीर साभार - इंडिया टुडे

मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने गुरुवार को प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके दावा किया था कि रिपब्लिक टीवी ने पैसे देकर टीआरपी खरीदी है, पुलिस कमिश्नर ने सीधे तौर पर रिपब्लिक टीवी को आरोपी मानते हुए कहा कि चैनल ने 500-500 रूपये देकर टीआरपी बढ़ाई।

मुंबई पुलिस कमिश्नर की प्रेस-कॉन्फ्रेंस के बाद इंडिया टुडे के पत्रकार राहुल कँवल काफी ज्यादा खुश थे, रिपब्लिक और अर्नब गोस्वामी के बारें में जमकर उल्टा-सीधा बोल रहे थे, हर 15 मिनट में एक ट्वीट कर रहे थे, हालाँकि राहुल कँवल की ठीक उस समय बोलती बंद हो गई जब टीआरपी चोरी में रिपब्लिक का नहीं बल्कि इंडिया टुडे का नाम आ गया. इंडिया टुडे का नाम टीआरपी चोरी में आने के बाद सोशल मीडिया पर राहुल कँवल का जमकर मजाक उड़ाया जा रहा है.

दरअसल मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने कहा कि BARC ने टीआरपी हेरफेर की हमें शिकायत दी उसके बाद हमनें इन्वेस्टिगेशन की, जिसमें पता चला है कि रिपब्लिक टीवी समेत दो मराठी चैनलों ने पैसे देकर टीआरपी बढ़वाई है, हालाँकि BARC ने जो शिकायत दी है उसमें रिपब्लिक नहीं बल्कि इंडिया टुडे का नाम लिखा है। लेकिन इसके बावजूद मुंबई पुलिस कमिश्नर ने जानबूझकर रिपब्लिक का नाम लिया और इंडिया टुडे का नाम नहीं लिया।

इंडिया टुडे का नाम टीआरपी चोरी में आने के बाद सोशल मीडिया पर राहुल कँवल की जमकर बत्ती बनाई जा रही है, रिपब्लिक के खिलाफ हर 15 मिनट में एक ट्वीट करने वाला राहुल कँवल अभी तक इंडिया टुडे की टीआरपी चोरी पर एक भी ट्वीट नहीं किया, हालाँकि सोशल मीडिया यूजर राहुल कँवल को बार-बार याद दिला रहे हैं कि तुम जिस चैनल में काम करता हो उसपर टीआरपी चोरी का आरोप लगा है, कुछ तो राहुल कँवल को टैग करके सीधा लिख रहे हैं, हेलो राहुल कँवल सूजी है. ट्रोलिंग से परेशान होकर राहुल कँवल ने कुछ यूजरों को ट्विटर पर ब्लॉक भी कर दिया, जिसके स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं।