सोशल मीडिया पर अपने विचार नहीं व्यक्त कर पाएंगे इंडिया टुडे-तक के पत्रकार, संस्थान ने लगाई पाबन्दी

इंडिया टुडे और आजतक के पत्रकार अब सोशल मीडिया पर अपने निजी विचार नहीं व्यक्त कर पायेंगे अर्थात ट्वीट या पोस्ट नहीं कर पायेंगे, संस्थान ने पाबन्दी लगा दी है, ये आदेश दो महीनें तक लागू रहेगा, इसका उल्लंघन करने पर पत्रकारों को नौकरी से हाथ भी धोना पड़ सकता है। इस बाबत इंडिया टुडे ग्रुप ने एक एडवाजरी जारी की है।

एडवाइजरी में कहा गया है कि इंडिया टुडे ग्रुप से जुड़े किसी भी फुलटाइम, पार्ट टाइम, कंसलटेंट, रीटेनर या फिर थर्ड पार्टी पर यह एडवाइजरी लागू होता है। दिशानिर्देश तत्काल प्रभाव से लागू होंगे और दो महीने के लिए प्रभावी होंगे।डवाइजरी के मुताबिक, दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी, टर्मिनेट भी किया जा सकता है।

एडवाइजरी का कहना है कि सोशल मीडिया पर किसी भी तरह के विवाद से बचते हुए पत्रकारिता के उच्च मानकों को बनाए रखने और सॉलिड स्टोरी करने पर ध्यान केंद्रित करने के लिए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं। बता दें कि इंडिया टुडे का नाम हाल ही में टीआरपी घोटाले में सामने आया था। मुंबई पुलिस ने एक एफआईआर भी दर्ज की थी जिसमें इंडिया टुडे का नाम था।

ऐसी एडवाजरी जारी करके इंडिया टुडे ने सभी कर्मचारियों की सोशल मीडिया आज़ादी समाप्त कर दी है, सभी कर्मचारी 2 महीने तक इंडिया टुडे ग्रुप की स्टोरी के अलावा कुछ भी ट्वीट या पोस्ट नहीं कर पायेंगे।

loading...